UP Board syllabus Class 12
BoardUP Board
Text bookNCERT
Class 12th
SubjectEnglish
Chapter Chapter 2
Chapter nameA FELLOW TRAVELLER
Chapter Number Number 6 Long Questions Answer
CategoryEnglish PROSE Class 12th

UP Board Chapter 2 Class 12 English

  1. UP Board Master Chapter 2 Class 12th A FELLOW TRAVELLER
  2. UP Board Master Chapter 2 Class 12th Summary of the Lesson
  3. UP Board Master Chapter 2 Class 12 Explanation
  4. UP Board Master chapter 2 Class 12 Comprehension Questions on Paras
  5. UP board Master chapter 2 Class 12 Short Questions Answer
  6. UP board chapter 2 Class 12 Long Questions Answer
  7. UP board chapter 2 Class 12 FILL IN THE BLANKS

Q. 1. Describe the behaviour of the fellow-traveller as described by A. G.bGardiner.
सहयात्री के व्यवहार का विवरण दीजिए, जैसा कि ए. जी. गार्डिनर ने निरूपित किया है।

or

Describe experience of A.G. Gardiner with his fellow-traveller.
A.जी. गार्डिनर के अपने सहयात्री के साथ हुए अनुभवों का वर्णन कीजिए।

Ans. Introduction

Ans. Introduction: The author (A. G. Gardiner) was travelling in the carriage. All the passengers got down according to their destination. Very soon he was left
alone. He was feeling pleasant being alone in the compartment. But very soon he felt that there was also a fellow-traveller in the compartment

Mosquito in the carriage

Mosquito in the carriage: The author was alone in the compartment. Suddenly a mosquito came in and sat on his nose. He flicked it off. Then it sat on his neck. He
flicked it off. It came again and sat on the back of his hand. The author was angry now. He decided to kill it. He struck a blow. It dodged.

The fight scene

The fight scene: The author made greater efforts. He lunged at it with his handbwith his paper. He jumped on the seat and pursued him round the lamp. But it
dodged everytime. The author even could not touch it. Then he attacked it cunningly like a cat.

Conclusion

Conclusion: The author allowed the mosquito to come down. Then he wentbnear it very stealthily and struck suddenly and quickly. But all was useless. The
author was attacking it angrily like an angry bull. The mosquito was cunningly jumping about like a skilful matador. At last the author gave up the fight.

भूमिका

भूमिका-लेखक ए.जी. गार्डिनर एक रेलगाड़ी में यात्रा कर रहा था। अपने-अपने गन्तव्य स्थानों पर सभी यात्री उतर गये। शीघ्र ही वह एकदम अकेला रह गया। डिब्बे में अकेला होने पर उसे बहुत अच्छा लग रहा था। लेकिन बहुत शीघ्र ही उसे महसूस हुआ कि डिब्बे में एक सहयात्री भी था।

डिब्बे में मच्छर

डिब्बे में मच्छर-लेखक डिस्बे में बिल्कुल अकेला था। अचानक एक मच्छर आया और उसकी नाक पर बैठ गया। उसने उसे उड़ा दिया। फिर वह उसकी गर्दन पर बैठ गया। उसने उसे उड़ा दिया। वह फिर
आया और उसके हाथ के पीछे की ओर बैठ गया। अब लेखक नाराज हो गया। उसने उसे मारने का निश्चय किया। उसने एक प्रहार किया। वह कुशलतापूर्वक बच गया।

युद्ध दृश्य

युद्ध दृश्य-लेखक ने और बड़े प्रयास किए। उसने उस पर अपने हाथ और अखवार से घेरा डाला। वह सीट पर उछल गया और प्रकाश लैम्प के चारों ओर पीछा किया। लेकिन वह हर बार कुशलतापूर्वक बच गया। लेखक उसे छू भी नहीं सका। फिर उसने उस पर बिल्ली की तरह आक्रमण किया।

निष्कर्ष

निष्कर्ष-लेखक ने मच्छर को नीचे आने की आज्ञा दे दी। फिर वह धीरे-धीरे उसके पास गया और अचानक तेजी से वार किया। लेकिन सब व्यर्थ रहा। लेखक उसके ऊपर एक क्रूद्ध साड का मात क्रोधित होकर आक्रमण कर रहा था। मच्छर एक कुशल योद्धा की भाँति उछल-कूद कर रहा था। अन्त
में लेखक ने युद्ध बन्द कर दिया।

Q.2.What relationship didA.G.Gardiner developwith his fellow-traveller?
ए. जी गार्डिनर ने अपने सहयात्री के साथ क्या आत्मीयता विकसित की?

Ans. Introduction

Ans. Introduction : A. G. Gardiner had to travel in the train from London to Midland town. There was a mosquito also in the compartment in which the author travelled. The mosquito troubled the author very much. So he was greatly annoyed and decided to kill it. But the author failed to do so and found himself helpless.

A fellow being

A fellow being: The author started thinking deeply about the fellow traveller because he could not kill it. Now the author began to enter into the spirit of the fellow. He saw the mosquito had a personality and intelligence. His heart was warming towards the mosquito. He decided to exercise generosity and mercy on the mosquito to recover the moral dignity of man.

Relationship developed

Relationship developed : The author developed a sort of affection for the mosquito. He recognised a more distant relationship that fortune had made them fellow-travellers on that summer night. He had interested the mosquito and the mosquito had entertained him. They shared a duty which was based on the basic fact that they were fellow mortals.

Conclusion

Conclusion: They were a good deal alike-just apparitions, that were and then
were not.

भूमिका

भूमिका-ए. जी. गार्डिन को रेलगाड़ी से लन्दन से मिडलैण्ड की यात्रा करनी पड़ी। जिस डिब्बे में लेखक यात्रा कर रहा था उसमें एक मच्छर भी था। मच्छर लेखक को बहुत कष्ट दे रहा था। इसलिए वह बहुत क्रोधित हो गया और उसे मारने का निश्चय किया। लकिन वह ऐसा नहीं कर सका तथा अपने आप को असहाय पाया।

एक सहयात्री

एक सहयात्री-लेखक ने सहयात्री के बारे में गम्भीरता से सोचना प्रारम्भ कर दिया क्योंकि वह उसे मार नहीं सका था। अब लेखक सहयात्री की आत्मा में प्रवेश करने लगा। उसने देखा कि मकार का भीbव्यक्त्वि और बद्धिमत्ता थी। उसका मच्छर के प्रति दिल नरम होने लगा। उसने मनुष्य की नैतिकता और
सम्मान को बनाये रखने के लिए मच्छर पर उदारता और दया करने का अभ्यास करने का निश्चय किया।

आत्मीयता पनपी

आत्मीयता पनपी-लेखक के अन्दर मच्छर के प्रति एक प्रकार का प्रेम विकसित हुआ। उसने एक दूर का रिश्ता पहचाना क्योंकि भाग्य ने उस गमी की रात का मच्छर को उसका सहयात्री बना दिया था। उसे मच्छर में रूचि हो गई और मच्छर ने उसका मनोरंजन किया था। उन्होंने कर्तव्य पालन किया जो इस बात पर आधारित था कि वे सहयात्री थे।

निष्कर्ष

. निष्कर्ष-वे काफी सीमा तक एक जैसे थे-ठीक प्रेत जैसे, जो थे और नहीं भी थे।

Q.3. Why did the author decide to be magnanimous and merciful to the fellow-traveller?लेखक ने सहयात्री के प्रति उदार और दयालु होने का निश्चय क्यों किया ?

Ans. Introduction

Ans. Introduction: The author (A. G. Gardiner) had to travel in a carriage from London to Midland town. There was a fellow-traveller in the compartment. When
all the passengers alighted one by one various stations, only the author and a fellow-traveller were left in the compartment. The fellow-traveller was a mosquito.
It troubled the author very much. The author tried to kill it but he failed to do so.bTherefore, he felt helpless and humiliated. His heart began to feel warmth of the
distant relationship of brotherhood.

His superiority faded

His superiority faded : The author felt himself to be superior to the other creature in the world. He falled in the competition which both ofthem were engaged.
It made him think in that direction of broad heartedness and mercy.

His feeling of magnanimity and mercy:

His feeling of magnanimity and mercy: The author now decided that he should become magnanimous and merciful because there was no other way left for him,
He thought that magnanimity and mercy were the noblest qualities of a person.

Conclusion

Conclusion: The author concludes that he should become magnanimous and merciful to the fellow-traveller because a man can recover his prestige only by
putting these qualities in his daily practice.

भूमिका

भूमिका-लेखक (ए. जी. गार्डिनर) को रेलगाड़ी से लन्दन से मिडलैण्ड के लिए यात्रा करनी पड़ी। डिये में एक सहयात्री था। जब सभी यात्री एक-एक करके अपने गन्तव्य स्थानों पर उतर गये, तो लेखक व एक सहयात्रीही डिब्बे में रह गये। सहयात्री एक मच्छर था। वह लेखक को काफी परेशान कर
रहा था। लेखक ने उसे मारने का प्रयास किया लेकिन वह ऐसा करने में असफल रहा। इसलिए वह असहाय और अपमानित महसूस करने लगा। उसका हृदय दूर का भाईचारे का रिश्ता और रिश्ते की गर्माहट महसूस करने लगा।

उसकी श्रेष्ठता मुरझा गई

उसकी श्रेष्ठता मुरझा गई-लेखक अपने आप को संसार के अन्य प्राणियों से श्रेष्ठ मानता था। लेकिन वह और सहयात्री एक-दूसरे से श्रेष्ठ बनने में असमर्थ रहे। वह (लेखक) विपरीत दिशा में बड़े दिलवाला और दया की ओर सोचने लगा।

उसकी उदारता व दयालुता की भावना

उसकी उदारता व दयालुता की भावना-अब लेखक ने निश्चय किया कि उसे उदार व दयालु हो जाना चाहिए क्योंकि अब उसके लिए अन्य कोई रास्ता नहीं बचा है। उसने सोचा कि उदारता और दयालुता एक आदमी के सर्वश्रेष्ठ गुण होते हैं।

निष्कर्ष

निष्कर्ष-लेखक निष्कर्ष निकालता है कि अब उसे सहयात्री के प्रति उदार और दयालु बन जाना चाहिए क्योंकि एक व्यक्ति इन गुणों को अपने दैनिक जीवन में प्रयोग करके अपने सम्मान को बनाये रख सकता है।

Q. 4. What according to A. G. Gardiner, is the pleasant sense of freedom about being alone in a railway compartment?
ए. जी. गार्डिनर के अनुसार रेलगाड़ी के डिब्बे में अकेले होने पर स्वच्छन्दता का क्या सुखद आभास
होता है ?

Ans. Introduction

Ans. Introduction : The writer was travelling by the last train from London to Midland town. The travellers got down in ones and twos at the stations. When the
train left the outer ring of London, the writer felt that he was alone in the compartment.

A pleasant sense of freedom

A pleasant sense of freedom : The writer felt a pleasant sense of freedom about being alone in the compartment. It was liberty and unrestraint in a very agreeable form. He was free to do anything he liked. He could talk to himself very loudly. He could have that argument out with Jones and role him triumphantly in the dust without fear of a counter-stroke. He could stand on his head and no one would see him. He could sing, or dance, or practise a golf-stroke, or play marbles. He could open the window or shut it. He could have any corner he choose. He
could lie at full length on the cushions.

Conclusion

Conclusion : Here the writer narrates the mental freedom of loneliness in a railway compartment.

भूमिका

भूमिका-लेखक लन्दन से अपने कस्बे के लिए जाने वाली अन्तिम गाड़ी से यात्रा कर रहा था। स्टेशनों पर सभी यात्रीगण एक-एक और दो-दो करके उतर गये। जब गाड़ी लन्दन के बाहरी घर काnपार कर गई, तो लेखक ने अनुभव किया कि अब वह डिब्बे में अकेला था।

स्वच्छन्दता का सुखद आभास

स्वच्छन्दता का सुखद आभास-लेखक ने रेलगाड़ी के डिब्बे में अकेला होने पर स्वच्छन्दता का सुखद आभास अनुभव किया। वह स्वच्छन्दता तथा खली छट का बहुत ही सुहावना रूप था। वह कुछ भी करने के लिए सर्वथा स्वतन्त्र था। वह स्वयं से बहत जोर-जोर से बातें कर सकता था। वह जान्स क
साथ तक कर सकता था और बिना पलटवार की सम्भावना के उसे धूल चटा सकता था। वह अपन सिर पर खड़ा हो सकता था और उसे कोई देख भी नहीं सकता था। वह गा सकता था, नाच सकता था अथवा गोल्फ का अभ्यास कर सकता था या फिर कंचों से खेल सकता था। वह खिड़की को खोल या बन्द कर सकता था। वह बैठने के लिए कोई भी कोना चुन सकता था। वह गद्दों पर पूरे पैर फैलाकर लट सकता था।

निष्कर्ष

निष्कर्ष-यहाँ लेखक रेलगाड़ी के डिब्बे में अकेलेपन की मानसिक स्वच्छन्दता का वर्णन कर

UP board Chapter 2 Class 12 English

  1. UP Board Master Chapter 2 Class 12th A FELLOW TRAVELLER
  2. UP Board Master Chapter 2 Class 12th Summary of the Lesson
  3. UP Board Master Chapter 2 Class 12 Explanation
  4. UP Board Master chapter 2 Class 12 Comprehension Questions on Paras
  5. UP board Master chapter 2 Class 12 Short Questions Answer
  6. UP board chapter 2 Class 12 Long Questions Answer
  7. UP board chapter 2 Class 12 FILL IN THE BLANKS

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 + 2 =

Share via
Copy link
Powered by Social Snap