Home » Class 12 English » Class 12 “English Poetry” Short Stories Chapter 4 “A Special Experience”
up-board-class-12-English

Class 12 “English Poetry” Short Stories Chapter 4 “A Special Experience”

UP UP Board Master for Class 12 “English Poetry” Short Stories Chapter 4 “A Special Experience” are a part of UP Board Master for Class 12 English. Right here we have now given UP Board Master for Class 12 “English Poetry” Short Stories Chapter 4 “A Special Experience”

BoardUP Board
TextbookNCERT
ClassClass 12
TopicEnglish Poetry Brief Tales
ChapterChapter 4
Chapter TitleA Particular Expertise
ClassClass 12 English

UP Board Master for Class 12 “English Poetry” Short Stories Chapter 4 “A Special Experience”

STORY at a Look

Hoteles On this story Prem Chand describes the experiences of two households whose Someday the husband of the narrator of the story served ‘sherbat’ and ‘pun’ to the liberty fighters. So he was sentenced for one yr’s rigorous imprisonment. The narrator was not perturbed. She felt happy with her husband and wished to the touch his ft. She celebrated her husband’s going to jail by distributing sweets among the many freedom fighters.

She was fairly alone in her home. So she knowledgeable her father and father-in-law and requested them to assist. However each refused. Her father-in-law was afraid lest his pension be stopped and her father was afraid lest his promotion and increment be stopped. Two policemen in white garments watched her home each time. She was very a lot afraid but she decided to protect her femininity in any respect prices. Babu Gyan Chand, a faculty trainer, was the very best buddy of her husband. When he got here to find out about it, he got here to her together with his spouse. They requested her to dwell with them. She agreed. There additionally she noticed two policemen watching the home of Babu Gyan Chand. The narrator didn’t like that her hosts needs to be in bother. However Gyan Chand’s spouse was not troubled in any respect.

One night when Gyan Babu returned from his school, he was very a lot perturbed. His principal had requested him to show the woman out of his home. She was the spouse of a freedom fighter. It was the order of the Commissioner. However Gyan babu didn’t yield earlier than them. He resigned from his publish. His resignation opened the eyes of the principal. He and the Commissioner each requested him many questions and had been. happy that Gyan Babu had no reference to the motion of freedom.

कहानी पर एक दृष्टि

इस कहानी में प्रेमचन्द ने उन दो परिवारों के अनुभवों का वर्णन किया है जिनका अपने देश की स्वतन्त्रता के लिए योगदान प्रशंसनीय था। एक दिन कहानी का वर्णन करने वाली स्त्री के पति ने स्वतन्त्रता सेनानियों को शरबत’ और ‘पान’ भेट. किया। इसलिए उसे एक वर्ष के कंठोर कारावास का दण्ड दिया गया। वह तनिक भी विचलित नहीं हुई। उसने अपने पति पर बड़े गर्व का अनुभव किया और उसके पैर छूना चाहती थी। उसने अपने पति के जेल जाने के अवसर पर स्वतन्त्रता सेनानियों में मिठाइयाँ बाँटीं।।

वह अपने मकान में बिल्कुल अकेली थी। इसलिए उसने अपने पिता एवं ससुर को सूचित किया और उनसे सहायता की प्रार्थना की। किन्तु दोनों ने मना कर दिया। उसके ससुर को यह भय था कि कहीं उसकी पेंशन न रुक जाए और उसके पिता को यह भय था कि कहीं उसकी प्रोन्नति एवं वेतन-वृद्धि न रुक जाए। सादे कपड़े पहने हुए दो पुलिस के सिपाही उसके घर पर हर समय पहरा देते थे। उसे बहुत भय था फिर भी उसने प्रत्येक दशा में स्त्रीत्व की रक्षा करने का निश्चय किया।

बाबू ज्ञान चन्द, जो एक स्कूल अध्यापक थे, उसके पति के घनिष्ठ मित्र थे। जब उन्हें इस बात का पता चला तब वे अपनी पत्नी के साथ उसके घर पर आए। उन्होंने उसे अपने साथ रहने की सलाह दी। वह सहमत हो गई। वहाँ भी उसने बाबू ज्ञान चन्द के मकान पर दो सिपाहियों को पहरा देते हुए देखा। उस स्त्री को यह अच्छा न लगा कि उसके मेजबान परेशानी में पड़े। किन्तु ज्ञान चन्द की पत्नी इस बात से बिल्कुल भी परेशान नहीं थी। एक दिन शाम को ज्ञान बाबू अपने कॉलिज से बहुत परेशानी में लौटे। उनके प्रधानाचार्य ने उन्हें कहा कि वे उस स्त्री को अपने घर से निकाल दें। वह एक स्वतन्त्रता सेनानी की पत्नी है। यह कमिश्नर का आदेश था। किन्तु ज्ञान बाबू उनके सामने झुके नहीं। उन्होंने अपने पद से त्याग-पत्र दे दिया। उनके त्याग-पत्र ने प्रधानाचार्य की आँखें खोल दीं। उन्होंने तथा कमिश्नर ने उनसे अनेक प्रश्न पूछे और सन्तुष्ट हो गए कि ज्ञान बाबू का स्वतन्त्रता आन्दोलन से कोई सम्बन्ध नहीं है।

Understanding the Textual content

Brief Reply Kind Questions

Reply two of the next questions in no more than 30 phrases every :
Query 1.
Who was jailed and why ?
(कैद की सजा किसको हुई और क्यों ?)
Reply.
The husband of the narrator of this story was jailed. He had served sherbat and pan to the political agitators.
(इस कहानी का वर्णन करने वाली महिला के पति को कारावास को दण्ड मिला। उसने राजनीतिक आन्दोलनकारियों को शरबत और पान भेंट किया था।) ।

Query 2.
Who’s the narrator of the story? |
(कहानी का वर्णन करने वाला कौन है ?)
Reply.
The narrator of the story is a lady whose husband was jailed.
(कहानी का वर्णन करने वाली एक महिला है जिसके पति को कारावास का दण्ड दिया गया।)

Query 3.
When do you suppose the incident befell ?
(a) earlier than 1947,
(b) after 1947,
(c) in 1947,
(d) in 1857.

(आपके विचार से यह घटना कब हुई ?
(a) 1947 से पूर्व,
(b) 1947 के बाद,
(c) 1947 में,
(d) 1857 में।)
Reply.
The incident befell earlier than 1947.
(यह घटना 1947 से पूर्व हुई।)

Query 4.
What had been the political agitators combating for ? 
(राजनीतिक आन्दोलनकारी किस बात के लिए लड़ रहे थे ?)
Reply.
The political agitators had been combating for the liberty of India.
(राजनीतिक आन्दोलनकारी भारत की स्वतन्त्रता के लिए लड़ रहे थे।)

Query 5.
Why did the woman wish to rush ahead and contact the ft of her husband ?
(वह स्त्री आगे दौड़ना क्यों चाहती थी और अपने पति के पैर छूना क्यों चाहती थी ?)
Reply.
Her husband had served the political agitators. It was the good work of patriotism. So the woman was very happy with her husband. She wished to hurry ahead and contact his ft.
(उसके पति ने राजनीतिक आन्दोलनकारियों की सेवा की थी। यह देशभक्ति का एक महान कार्य था। इस कारण उस स्त्री को अपने पति पर बहुत अभिमान था। वह आगे बढ़कर उसके चरण-स्पर्श करना चाहती थी।)

Query 6.
How did the spouse rejoice her husband’s going to jail ?
(पत्नी ने अपने पति के जेल जाने के अवसर को कैसे मनाया ?)
Reply.
The spouse celebrated her husband’s going to jail by distributing sweets among the many freedom fighters. She additionally addressed a gathering organised by Congress and pledged to observe satyagraha.
(पत्नी ने अपने पति के जेल जाने के अवसर को स्वतन्त्रता सेनानियों में मिठाई बाँटकर मनाया। कांग्रेस के द्वारा संगठित एक जनसभा में उसने भाषण भी दिया और सत्याग्रह का अनुसरण करने का वायदा किया।)

Query 7.
How did the daddy and father-in-law of the narrator reply to her telegrams ? And why?
(कहानी का वर्णन करने वाली स्त्री के पिता एवं ससुर ने उसके तारों का क्या उत्तर दिया ? और क्यों ?)
Reply.
When the husband of the narrator was taken to jail, she was alone in the home. So she despatched two telegrams, one to her father-in-law and one other to her father. However each of them responded in an detached approach. Her father-in-law was afraid lest his pension needs to be stopped and her father was afraid lest his promotion needs to be stopped.
(जब वर्णन करने वाली स्त्री का पति जेल ले जाया गया तब वह घर में अकेली रह गई। इसलिए उसने एक तार अपने ससुर को तथा दूसरा अपने पिता को भेजा। किन्तु दोनों ने निराशाजनक उत्तर दिया। उसके ससुर को भय था कि कहीं उसकी पेंशन बन्द न हो जाए और उसके पिता को यह भय था कि कहीं उनकी प्रोन्नति न रुक जाए।)

Query 8.
Why didn’t the father-in-law of the woman whose husband had been given a yr’s onerous labour for a petty offence of serving sherbat and pan to the political agitations, assist her as depicted in Prem Chand’s story, A Particular Expertise’?
(प्रेमचन्द की कहानी A Particular Expertise’ में उस स्त्री की, जिसके पति को राजनीतिक . आन्दोलनकारियों को शरबत एवं पान प्रस्तुत करने के लिए एक वर्ष का सश्रम कारावास का दण्ड दिया गया था, उसके ससुर ने क्यों मदद नहीं की ?)
Reply.
The daddy-in-law didn’t assist her as a result of he had a small Authorities pension. He was afraid that if he helped her, his pension could be reduce off.
(उसके ससुर को शासकीय सेवा निवृत्तिवेतन मिलता था। उनको डर था कि यदि उन्होंने उसकी मदद की तो उसकी निवृत्ति वेतन बन्द हो जाएगी। इसी कारण उसने उसकी मदद नहीं की।)

Query 9.
Who had been the 2 individuals watching her from the door ?
(a) Constables,
(b) Gyan Babu and his spouse,
(c) Neighbours,
(d) The Principal and the Police Commissioner.

(वे दो व्यक्ति कौन थे जो दरवाजे से उस पर निगाह रख रहे थे ?
(अ) सिपाही,
(ब) ज्ञान बाबू और उनकी पत्नी,
(स) पड़ोसी,
(द) प्रधानाचार्य और पुलिस कमिश्नर।)
Reply.
The constables had been watching her from the door.
(दरवाजे से दो सिपाही उस पर निगाह रख रहे थे।)

Query 10.
How did the spouse react to her husband’s imprisonment ?
(पत्नी ने अपने पति के जेल जाने पर क्या प्रतिक्रिया व्यक्त की ?)
Reply.
On her husband’s imprisonment the spouse was very daring and brave. She was filled with patriotism. She was so happy with her husband that she wished to the touch his ft. She distributed sweets among the many freedom fighters. However she was a woman and was on their own in the home. So she decided to protect her femininity in any respect prices.
(अपने पति के जेल जाने पर पत्नी बहुत बहादुर और साहसी थी। वह देशभक्ति से परिपूर्ण थी। उसे अपने पति पर इतना गर्व था कि वह उसके चरण-स्पर्श करना चाहती थी। उसने स्वतन्त्रता सेनानियों को मिठाइयाँ बाँटीं। किन्तु वह एक स्त्री थी और घर में बिल्कुल अकेली थी। इसलिए उसने अपने स्त्रीत्व की सुरक्षा करने का दृढ़ निश्चय कर लिया था।)

Query 11.
‘The girl was upset once more after eight days.’ Why?
(‘वह स्त्री आठ दिन के बाद पुनः परेशान हो गयी।’ क्यों ?)
Reply.
The girl was residing with the household of Gyan Chand. After eight days she noticed two police constables in entrance of the home. So she was upset.
(वह स्त्री ज्ञान चन्द के परिवार के साथ रह रही थी। आठ दिन के बाद उसने घर के सामने दो पुलिस के सिपाहियों को देखा। उन्हें देखकर वह परेशान हो गयी।)

Query 12.
What perturbed Gyan Babu one night ?
(कौन-सी बात ने ज्ञान बाबू को एक दिन शाम को परेशान कर दिया ?)
Reply.
One night the principal informed Gyan Babu that he ought to flip the woman out of his home. It was the order of Commissioner. So Gyan Babu had a quarrel with the principal and he was perturbed
(एक दिन शाम को प्रधानाचार्य ने ज्ञान बाबू को बताया कि वह उस स्त्री को अपने घर से निकाल दें। यह कमिश्नर की आज्ञा थी। इसलिए ज्ञान बाबू का प्रधानाचार्य से झगड़ा हुआ और वे इसी कारण परेशान थे।)

Query 13.
Why was the narrator stressed the entire night time ?
(कहानी का वर्णन करने वाली स्त्री पूरी रात क्यों बेचैन रही ?)
Reply.
The narrator’s father and father-in-law refused to assist her when her husband was in jail. Her husband’s buddy helped her by maintaining her in his home. However now by the order of the Commissioner his service was to be misplaced. It was solely resulting from her. So the narrator was very stressed the entire night time.
(कहानी का वर्णन करने वाली स्त्री के पिता तथा ससुर दोनों ने उस समय उसकी सहायता करने से मना कर दिया जब उसका पति जेल में था। उसके पति के मित्र ने उसे अपने मकान में रखकर उसकी सहायता की। किन्तु अब कमिश्नर की आज्ञा से उसकी नौकरी जाने वाली थी। ऐसा उसी स्त्री के कारण हो रहा था। इस कारण वह स्त्री पूरी रात बेचैन रही।)

Query 14.
What disturbed Gyan Babu as soon as within the story “A Particular Expertise’? How did he face the scenario ? (A Particular Expertise’
नामक कहानी में किस बात ने ज्ञान बाबू को एक बार परेशान किया ? उसने इस परिस्थिति का कैसे सामना किया ?)

Or

How had Gyan Babu to place in his resignation ?
(ज्ञान बाबू को अपना त्याग-पत्र क्यों देना पड़ा?)
Reply.
When the principal informed Gyan Babu to end up the spouse of the jailed freedom fighter from his home, he acquired disturbed. He confronted the scenario succesfully by handing his resignation to the principal.
(जब प्रधानाचार्य ने ज्ञान बाबू से कहा कि वह स्वतन्त्रता सेनानी की पत्नी को घर से निकाल दें, तो वह परेशान हो गया। उसने अपना त्याग-पत्र प्रधानाचार्य को सौंप कर स्थिति का सफलतापूर्वक सामना किया।)

Query 15.
What did Gyan Babu’s spouse inform him to do the subsequent day?
(ज्ञान बाबू की पत्नी ने उसे अगले दिन क्या करने को कहा ?)

Or

Why did Gyan Babu’s spouse inform him to place in his resignation ?
(ज्ञान बाबू की पत्नी ने उन्हें त्याग-पत्र सौंपने के लिए क्यों कहा ?)
Reply.
Gyan Babu’s spouse requested him to inform the principal that he was not going to show that woman out of the home. If he didn’t agree, he ought to submit his resignation.
(ज्ञान बाबू की पत्नी ने उसे प्रधानाचार्य को यह कहने को कहा कि वह उस स्त्री को घर से नहीं निकालेगा और यह भी कहा कि यदि वे सहमत न हों तब वह त्याग-पत्र दे दें।)

Query 16.
How did the resignation of Gyan Babu have an effect on the principal ?
(ज्ञान बाबू के त्याग-पत्र ने प्रधानाचार्य पर कैसा प्रभाव डाला ?) 
Reply.
The resignation of Gyan Babu made the principal come to his senses. He mentioned the matter with the Commissioner and determined to not punish Gyan Babu.
(ज्ञान बाबू के त्याग-पत्र ने प्रधानाचार्य को होश में ला दिया। उसने इस मामले में कमिश्नर के साथ बातचीत की और ज्ञान बाबू को दण्डित न करने का निर्णय लिया।)

Query 17.
Who was Gyan Babu ? Why did he tender his resignation ?
(ज्ञान बाबू कौन थे ? उन्होंने त्याग-पत्र क्यों दिया ?)
Reply.
Gyan Babu was a faculty trainer. He refused his principal to end up the woman from his home whose husband was in jail. So he tendered his resignation.
(ज्ञान बाबू एक अध्यापक थे। उन्होंने प्रधानाचार्य को उस स्त्री को अपने घर से निकालने के लिए मना कर दिया जिसका पति जेल में था। अतः उन्होंने अपना त्याग-पत्र दे दिया।)

Query 18.
What sort of a woman is Gyan Babu’s spouse ? Has she impressed you ? Give examples in help of your reply.
(ज्ञान बाबू की पत्नी किस प्रकार की स्त्री है ? क्या उसने आपको प्रभावित किया है। अपने उत्तर की पुष्टि में उदाहरण दो।)
Reply.
Gyan Babu’s spouse is a rare woman. She is fearless and filled with patriotism and dignity. She is a serving to woman. Resulting from these causes she has actually impressed me.
(ज्ञान बाबू की पत्नी एक विलक्षण स्त्री है। वह निडर, देशभक्त तथा स्वाभिमानी है। वह सहायता करने वाली स्त्री है। इन्हीं कारणों से उसने वास्तव में मुझे प्रभावित किया है।)

Query 19.
“She was flint outdoors and gold inside.” Who says this and about whom ? And what does it recommend
(‘वह बाहर से पत्थर के समान कठोर और अन्दर से सोने के समान मुलायम थी।’ यह बात कौन कहता है और किसके विषय में ? यह बात क्या संकेत देती है ?)
Reply.
The narrator of the story says this in regards to the spouse of Gyan Chand. It means that Mrs. Gyan Chand was onerous in her look and phrases, however at coronary heart she was very mild and beneficiant.
(इस कहानी का वर्णन करने वाली महिला ने यह टिप्पणी ज्ञान चन्द की पत्नी के विषय में की। यह इस बात का संकेत देती है कि श्रीमती ज्ञान चन्द देखने-भालने में तथा बोलचाल में कठोर थीं, किन्तु हृदय से वे बहुत उदार एवं सज्जन थीं।)

Query 20.
In what approach did the narrator specific her emotions at her husband’s going to jail ?
(कहानी का वर्णन करने वाली स्त्री ने अपने पति के जेल के अवसर पर किस प्रकार अपनी भावनाओं को प्रकट किया ?)
Reply.
At her husband’s going to jail, the narrator felt proud. She was not the least perturbed or discouraged. She expressed her emotions by distributing sweets among the many freedom fighters. She addressed a gathering additionally organised by Congress and pledged to observe satyagraha.
(अपने पति के जेल जाने पर उस स्त्री ने गर्व का अनुभव किया। वह बिल्कुल भी परेशान या हतोत्साहित नहीं हुई। उसने अपनी भावनाओं को स्वतन्त्रता सेनानियों में मिठाई बाँटकर प्रकट किया। उसने कांग्रेस द्वारा संगठित एक सभा को भी सम्बोधित किया और सत्याग्रह पर चलने का वायदा किया।)

Query 21.
Why did Gyan Babu’s spouse inform him to place in his resignation ?
(ज्ञान बाबू की पत्नी ने उनसे त्याग-पत्र देने को क्यों कहा ?)
Reply.
The principal had requested Gyan Babu to show the woman out of her home. However Gyan Babu’s spouse didn’t like to show her out of the home at any value. So she informed Gyan Babu to place in his resignation.
(प्रधानाचार्य ने ज्ञान बाबू से उसे स्त्री को घर से निकालने को कहा था। किन्तु ज्ञान बाबू की पत्नी उसे घर से किसी भी दशा में नहीं निकालना चाहती थी। अत: उन्होंने ज्ञान बाबू को कहा कि वे अपना त्याग-पत्र दे दें।)

Query 22.
Who made higher sacrifice-Gyan Babu or the narrator’s husband ?
(अधिक बलिदान किसने किया—ज्ञान बाबू ने या कहानी का वर्णन करने वाली स्त्री के पति ने ?)
Reply.
For my part the sacrifice of Gyan Babu is larger. He was not a political man. But he was able to sacrifice his service; i.e. technique of livelihood of his household, for the sake of his friendship.
(मेरे विचार से ज्ञान बाबू का बलिदान अधिक महान् है। वे एक राजनीतिक व्यक्ति नहीं थे। फिर भी वे अपनी नौकरी अर्थात् पूरे परिवार की आजीविका के साधन को मित्रता के वास्ते बलिदान करने को तैयार थे।) ।

Query 23.
How does the narrator regard Gyan Babu’s spouse? Do you suppose she is justified in her emotions?
(कहानी का वर्णन करने वाली स्त्री ज्ञान बाबू की पत्नी का सम्मान कैसे करती है ? आपके विचार से क्या उसकी भावनाएँ न्यायोचित हैं ?)
Reply.
The narrator regarded Gyan Babu’s spouse as a goddess. She is justified in her emotions. Mrs. Gyan Babu helped her whereas her personal father and father-in-law refused to assist her. She was so broad-minded and self-sacrificing that she herself requested Gyan Babu to resign if his principal was adamant to get the narrator turned out of his home.
(कहानी का वर्णन करने वाली स्त्री ज्ञान बाबू की पत्नी को देवी मानती है। वह अपनी भावनाओं में न्यायोचित है। श्रीमती ज्ञान बाबू ने उसकी उस समय सहायता की जबकि उसके पिता और ससुर ने भी उसकी सहायता करने के लिए मना कर दिया। वह इतनी विशाल हृदय वाली और त्याग करने वाली स्त्री थी कि उसने स्वयं ज्ञान बाबू से त्याग-पत्र देने को कहा यदि उनके प्रधानाचार्य इस बात पर डटे रहें कि वे उस स्त्री को घर से निकाल दें।)

Query 24.
Gyan Babu’s spouse says, “There’s just one reply, isn’t there?” Write in your personal phrases what this reply is ?
(ज्ञान बाबू की पत्नी कहती है, “इसका केवल एक ही उत्तर है, क्या नहीं है?” अपने शब्दों में लिखिए कि वह उत्तर क्या है ?)
Reply.
The reply is that Gyan Babu ought to inform his principal that he’s not going to let that woman go from his home and if he doesn’t like that concept, he can have his resignation.
(उत्तर यह है कि ज्ञान बाबू को अपने प्रधानाचार्य से कह देना चाहिए कि वह उस स्त्री को अपने घर से निकोलने नहीं जा रहे हैं और यदि उसे यह विचार पसन्द नहीं है, तो वह उसको त्याग-पत्र ले सकते हैं।)

Query 25.
“If there ever was a goddess, she is one.” Who stated this & why within the story ‘A Particular Expertise’?
(“अगर कहीं देवी है, तो वह है।” A Particular Expertise’ कहानी में यह किसने कहा और क्यों ?)
Reply.
The girl whose husband was jailed stated these phrases about Gyan Babu’s spouse. She gave the woman such affection and such respect whereas she was spurned by her father and father-in-law.
(उस स्त्री ने जिसका पति जेल में है, ने ज्ञान बाबू की पत्नी के बारे में यह शब्द कहे थे। उसने उस स्त्री को ऐसा प्यार तथा ऐसा सम्मान दिया था जिसे उसके पिता एवं ससुर द्वारा ठुकरा दिया गया था।)

We hope the UP Board Master for Class 12 English Poetry Brief Poems UP Board Grasp for Class 12 “English Poetry” Short Stories Chapter 4 “A Special Experience” assist you to. You probably have any question relating to UP Board Master for Class 12 “English Poetry” Short Stories Chapter 4 “A Special Experience”, drop a remark under and we’ll get again to you on the earliest.

UP board Master for class 12 English chapter list

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 + = 25

Share via
Copy link
Powered by Social Snap