Home » Sahityik Hindi Class 12th » मैथिलीशरण गुप्त – परिचय – कैकेयी का अनुताप – गीत
BoardUP Board
Text bookNCERT
SubjectSahityik Hindi
Class 12th
हिन्दी पद्य-मैथिलीशरण गुप्त – परिचय – कैकेयी का अनुताप – गीत
Chapter 4
CategoriesSahityik Hindi Class 12th
website Nameupboarmaster.com
संक्षिप्त परिचय मैथिलीशरण गुप्त
नाममैथिलीशरण गुप्त
जन्म1886 ई. में चिरगाँव, जिला झाँसी, उत्तर – प्रदेश
पिता का नामसेठ रामचरण गुप्त
माता का नाम काशीबाई
शिक्षाचिरगाँव में प्राथमिक शिक्षा और मैकडोनल
हाईस्कूल, झाँसी से मध्य विद्यालय तक की
शिक्षा साथ ही घर पर ही रहकर संस्कृत,
अंग्रेजी, बांग्ला एवं हिन्दी का अध्ययन।
कृतियाँकाव्य ग्रन्थ भारत भारती, साकेत,
यथोधरा, पंचवटी, द्वापर, जयद्रथ वध, जय
भारत, झंकार। अनूदित रचनाएँ प्लासी का
युद्ध, मेद्यनाद- वध, वृत्र-संहार। पद्यबद्ध
रूपक अनध, तिलोत्तमा व चन्द्रहास।
उपलब्धियाँ आगरा एवं प्रयाग विश्वविद्यालय से डी.लिट्
की मानद उपाधि, ‘साकेत’ काव्य ग्रन्थ पर
मंगलाप्रसाद पारितोषिक तथा 1954 ई. में
पद्मभूषण से सम्मानित।
मृत्यु 1964 ई.

जीवन परिचय एवं साहित्यिक उपलब्धियाँ

राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त का जन्म झाँसी जिले के चिरगाँव नामक स्थान पर 1888 ई में हुआ था। इनके पिता का नाम सेठ रामचरण गप्त और माता का नाम काशीबाई था। इनके पिता को हिन्दी साहित्य से विशेष प्रेम था, गुप्त जी पर अपने पिता का पूर्ण प्रभाव पड़ा। इनकी प्राथमिक शिक्षा चिरगाँव तथा माध्यमिक शिक्षा मैकडोनल हाईस्कूल (झाँसी) से हुई। घर पर ही अंग्रेजी, बांग्ला, संस्कृत एवं हिन्दी का अध्ययन करने वाले गुप्त जी की प्रारम्भिक रचनाएँ कलकत्ता से प्रकाशित होने वाले ‘वैश्योपकारक’ नामक पत्र में छपती थीं। आचार्य महावीरप्रसाद द्विवेदी जी के सम्पर्क में आने पर उनके आदेश, उपदेश एवं स्नेहमय परामर्श से इनके काव्य में पर्याप्त निखार आया। द्विवेदी जी को ये अपना गुरु मानते थे। उन्हीं से प्रेरणा प्राप्त कर गुप्त जी ने खड़ीबोली में ‘भारत-भारती’ की रचना की। राष्ट्रीय विशेषताओं से परिपूर्ण रचनाओं का सृजन करने के कारण ही महात्मा गांधी ने इन्हें ‘राष्ट्रकवि’ की उपाधि दी। आगरा और प्रयाग विश्वविद्यालय की ओर से इन्हें मानद डी.लिट् की उपाधि प्रदान की गई। ‘साकेत’ महाकाव्य के लिए इन्हें हिन्दी साहित्य सम्मेलन द्वारा ‘मंगलाप्रसाद पारितोषिक’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया। भारत सरकार ने इन्हें ‘पद्मभूषण’ से सम्मानित किया। 12 दिसम्बर, 1964 को माँ भारती का यह सच्चा सपूत सदा के लिए पंचतत्व में विलीन हो गया।

साहित्यिक गतिविधियाँ

गुप्त जी ने खड़ीबोली के स्वरूप के निर्धारण एवं विकास में अपना महत्त्वपूर्ण योगदान दिया। गुप्त जी की प्रारम्भिक रचनाओ भारत-भारती आदि में इतिवृत्तकथन की अधिकता है, किन्तु इनकी बाद की रचनाओं, जैसे-यशोधरा और साकेत में लाक्षणिक वैचित्र्य एवं सूक्ष्म मनोभावों की मार्मिक अभिव्यक्ति हुई है। गुप्त जी ने इन दोनों रचनाओं में प्रबन्ध के अन्दर गीति-काव्य का समावेश कर उन्हें उत्कृष्टता प्रदान की है।

कृतियाँ

गुणा जी के लगभग 40 मौलिक काव्य ग्रन्थों में भारत-भारती, किसान, शकुन्तला, पंचवटी, त्रिपथगा, साकेत, यशोधरा, द्वापर, नहुष, काबा और कर्बला आदि उल्लेखनीय हैं। इनके अतिरिक्त गुप्त जी ने अनघ, तिलोत्तमा एवं चन्द्रहास जैसे तीन छोटे-छोटे पद्यबद्ध रूपक भी लिखे। अनूदित रचनाओं में प्लासी का युद्ध, मेघनाद-वध तथा वृत्र-संहार उल्लेखनीय रचनाएँ हैं।

काव्यगत विशेषताएँ
भाव पक्ष

  1. राष्ट्रप्रेम गुप्त जी की कविता का मुख्य स्वर राष्ट्रप्रेम है। इनकी
    रचनाओं में आज की समस्याओं एवं विचारों के स्पष्ट दर्शन होते
    हैं। इसका एक मुख्य उद्देश्य भारतीय जनता में राष्ट्रीय चेतना
    जाग्रत करना था। इन्होंने ऐसे समय में लोगों में राष्ट्रीय चेतना का
    स्वर फूंका, जब हमारा देश परतन्त्रता की जंजीरों में जकड़ा हुआ
    था। देशवासियों में स्वदेश प्रेम जाग्रत करते हुए इन्होंने कहा
    “जो भरा नहीं है भावों से, बहती जिसमें रसधार नहीं।
    वह हृदय नहीं है पत्थर है, जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं।।”
  2. नारी का महत्त्व गुप्त जी का हृदय नारी के प्रति करुणा व
    सहानुभूति से परिपूर्ण है। इन्होंने नारी की स्थिति को ऊँचा उठाने
    के लिए सदियों से उपेक्षित उर्मिला एवं यशोधरा जैसी नारियों के
    चरित्र का उदात्त चित्रण करके एक नई परम्परा का सूत्रपात
    किया।
  3. भारतीय संस्कृति के उन्नायक गुप्त जी भारतीय संस्कृति के
    प्रतिनिधि कवि हैं, इसलिए इन्होंने भारत के गौरवशाली अतीत का
    सुन्दर वर्णन किया। इनका विश्वास था कि सुन्दर वर्तमान और
    स्वर्णिम भविष्य के लिए अतीत को जानना अत्यन्त आवश्यक है।।
  4. प्रकृति चित्रण इनमें प्रकृति को आकर्षक रूप देने में अत्यधिक
    कुशलता है। इनके प्रकृति चित्रण में हृदय को सहज ही आकर्षित
    कर लेने की अद्भुत क्षमता है।
  5. रस योजना गुप्त जी की रचनाओं में अनेक रसों का सुन्दर समन्वय मिलता है। शृंगार, रौद्र, करुण, वीभत्स, हास्य एवं शान्त रसों के प्रसंगों में गुप्त जी अत्यधिक सफल रहे हैं। साकेत में भंगार रस के दोनों पक्षों-संयोग एवं वियोग का सन्दर समन्वय देखने को मिलता है। प्रसंगानुसार इनके काव्य में ऐसे स्थल भी हैं, जहाँ
    पात्र अपनी गम्भीरता को भूलकर हास्यमय हो गए हैं।

कला पक्ष

  1. भाषा हिन्दी साहित्य में खड़ीबोली को साहित्यिक रूप देने में गुप्त जी का महत्त्वपूर्ण योगदान है। गुप्त जी की भाषा में माधुर्य भावों में तीव्रता और प्रयक्त शब्दों का सौन्दर्य अदभुत है। इन्होंने ब्रजभाषा के स्थान पर सरल, शुद्ध एवं परिष्कृत खड़ीबोली में काव्य सृजन करके उसे काव्य भाषा के रूप में स्थापित करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई। गम्भीर विषयों को भी सुन्दर और सरल शब्दों
    में प्रस्तुत करने में ये सिद्धहस्त थे। इनकी भाषा में लोकोक्तियाँ एवं मुहावरों के प्रयोग से जीवन्तता आ गई है।
  2. शैली गुप्त जी ने अपने समय में प्रचलित लगभग सभी शैलियों का प्रयोग अपनी रचनाओं में किया। ये मूलतः प्रबन्धकार थे, लेकिन प्रबन्ध के साथ-साथ मुक्तक, गीति, गीति-नाट्य, नाटक आदि क्षेत्रों में भी अनेक सफल रचनाएँ की हैं। इनकी रचना ‘पत्रावली’ पत्र शैली में रचित नूतन काव्य-प्रणाली का नमूना है। इनकी शैलियों में गेयता, सहज प्रवाहमयता, सरसता एवं संगीतात्मकता मौजूद है।
  3. अलंकार एवं छन्द अलंकार के क्षेत्र में गुप्त जी उपमा, रूपक, उत्प्रेक्षा, यमक, श्लेष के अतिरिक्त ध्वन्यर्थ-व्यंजना, मानवीकरण जैसे आधुनिक अलंकारों का भी प्रयोग किया। अन्त्यानुप्रासों की योजना में इनका कोई जोड़ नहीं है। इन्होंने प्रायः सभी प्रचलित छन्दों-मन्दाक्रान्ता, शिखरनी, वसन्ततिलका, द्रुतविलम्बित,
    हरिगीतिका, बरवै , मालिनी आदि में अपनी रचनाएँ प्रस्तुत की। इन्होंने तुकान्त, अतुकान्त एवं गीति तीनों प्रकार के छन्दों का समान अधिकार से प्रयोग किया है।

हिन्दी साहित्य में स्थान

मैथिलीशरण गुप्त जी की राष्ट्रीयता की भावना से ओत-प्रोत रचनाओं के कारण हिन्दी। साहित्य में इनका विशेष स्थान है। ये आधुनिक हिन्दी काव्य धारा के साथ विकास-पथ पर चलते हुए युग-प्रतिनिधि कवि स्वीकार किए गए। हिन्दी काव्य राष्ट्रीय भावों को। पुनीत गंगा को बहाने का श्रेय गुप्त जी को ही है। अतः ये सच्चे अर्थों में लोगों में राष्ट्रीय भावनाओं को भरकर उनमें जन-जागृति लाने वाले सच्चे राष्ट्रकवि हैं। इनके काव्य हिन्दा। साहित्य की अमूल्य निधि हैं।

पद्यांशों की सन्दर्भ एवं प्रसंग सहित व्याख्या

कैकेयी का अनुताप

1.तदनन्तर बैठी सभा उटज के आगे,
नीले वितान के तले दीप बहु जागे।
टकटकी लगाए नयन सुरों के थे वे,
परिणामोत्सुक उन भयातुरों के थे वे।
उत्फुल्ल करौंदी-कुंज वायु रह-रहकर
करती थी सबको पुलक-पूर्ण मह-महकर।
वह चन्द्रलोक था, कहाँ चाँदनी वैसी,
प्रभु बोले गिरा, गम्भीर नीरनिधि जैसी।

शब्दार्थ तदनन्तर इसके पश्चात: उटज कुटिया; वितानमण्डप:
तले नाच, दीपन्तारा; टकटकी लगाना एकटक दखना; नयन आख, सुर देवता; परिणामोत्सुक परिणाम के लिए उत्सुक भयातरों भयभीत उत्फल्ल-विकसित, प्रसन्न करौदी-कंज-करौंदे का बगीचा, पुलक-पूर्ण आनन्द से परिपूर्ण, गिरावाणी; नीरनिधि-सागरा

सन्दर्भ प्रस्तुत पद्यांश हमारी हिन्दी पाठ्यपुस्तक में संकलित राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त द्वारा रचित ‘कैकेयी का अनुताप’ शीर्षक से उद्धृत है।

प्रसंग प्रस्तुत पद्यांश में पंचवटी की प्राकृतिक छटा का मनोहरी वर्णन किया गया है। प्रकृति के सौन्दर्य का यह वर्णन उस क्षण का है जब यहाँ भरत सहित अयोध्या के वासियों को श्रीराम से भेंट करने हेतु रात्रि-सभा का आयोजन किया जाता है

व्याख्या भरत सहित अयोध्यावासियों के पंचवटी पहुँचने के पश्चात् रात्रि में श्रीराम की कुटिया के सामने सभा बैठाई गई, जिसे देख ऐसा आभास हो रहा था कि मानो आकाश रूपी मण्डप के नीचे बहुत से तारे रूपी दीपक जगमगा रहे हों, सभा में लिए। जाने वाले महत्त्वपूर्ण निर्णय का परिणाम जानने के लिए उत्सुक देवतागण भी वहाँ । एकटक नजरें गड़ाए हुए थे। सभी इस बात को लेकर भयभीत थे कि कहीं भरत के । आगमन का श्रीराम कुछ और ही अर्थ निकालकर कोई कठोर निर्णय न कर लें।

वहाँ का प्राकृतिक सौन्दर्य अनुपम था। खिले हुए करौंदे पुष्पों से भरे हुए । बगीचों से रह-रह कर आने वाली मन्द, शीतल व सुगन्धित पवन वहाँ उपस्थित लोगों को पुलकित कर रही थी। वहाँ ऐसी मनोहर चाँदनी छिटक रही थी, जिसका अन्यत्र मिलना दुर्लभ है। वह सभा चन्द्रलोक-सी प्रतीत हो रही थी। अलौकिक दृश्यों से परिपूर्ण उस शान्त सभा में श्रीराम ने सागर सदृश अति गम्भीर स्वर में बोलना प्रारम्भ किया।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
(i) इन काव्य पंक्तियों के माध्यम से कवि द्वारा रात्रि के समय पंचवटी आश्रम के आस-पास की प्राकृतिक छटा के मनोहारी होने का भाव अभिव्यक्त किया गया है।
(ii) रस शान्त

कला पक्ष
भाषा परिष्कृत खड़ीबोली शैली प्रबन्धात्मक
छन्द मालिनी अलंकार उपमा, पुनरुक्तिप्रकाश, रूपक एवं अनुप्रास
गुण प्रसाद शब्द शक्ति अभिधा एवं लक्षणा

  • 2 हे भरतभद्र, अब कहो अभीप्सित अपना”।
    सब सजग हो गए, भंग हुआ ज्यों सपना।
    “हे आर्य, रहा क्या भरत-अभीप्सित अब भी?
    मिल गया अकण्टक राज्य उसे जब, तब भी?
    पाया तुमने तरु-तले अरण्य-बसेरा,
    रह गया अभीप्सित शेष तदपि क्या मेरा?
    तनु तड़प-तड़पकर तत्प तात ने त्यागा,
    क्या रहा अभीप्सित और तथापि अभागा?

शब्दार्थ भरतभद्र-भरतश्रेष्ठ; अभीप्सित-अभीष्ट, मनोकामना; सजग- सावधान, सतर्क, अकण्टक-बाधारहित, एकछत्र; तरु-तले-पेड़ के नीचे; अरण्य-बसेरा-जंगल में निवास; शेष-बाकी; तदपि-तो भी; तन-तन, शरीर; तप्त-दुःखी; तात-पिता; तथापि यद्यपि, अभागा-भाग्यहीन।

सन्दर्भ पूर्ववत्।

प्रसंग प्रस्तुत पद्यांश में पंचवटी में आयोजित की गई रात्रि-सभा में श्रीराम, भरत से उनकी इच्छा पूछते हैं। इस पर भरत अति व्याकुलतापूर्ण शब्दों में अपनी मनोदशा राम के समक्ष व्यक्त करते हैं।

व्याख्या जब राम अपने अनुज भरत से कहते हैं कि अब तुम अपनी इच्छा व्यक्त करो तो वहाँ उपस्थित सभी लोग वैसे सावधान हो जाते हैं, जैसे स्वप्न टूटने पर कोई व्यक्ति। यहाँ कहने का तात्पर्य यह है कि सभी लोग राम-भरत संवाद को सुनने और उसका परिणाम जानने के लिए व्याकुल थे। राम की बात सुनकर भरत कहते हैं कि हे आर्य! अब भला मेरी और क्या अभिलाषा शेष होगी, जब मुझे अयोध्या का एकछत्र राज्य और आपको वनवास मिल गया। पिता जी ने भी दु:ख में तड़प-तड़प कर प्राण त्याग दिए। ऐसे में भला इस अभागे की और कौन-सी चाह (इच्छा) पूरी होनी, शेष रही होगी। इस प्रकार, भरत ने दुःखपूर्ण शब्दों में राम के सम्मुख अपनी मनोदशा को व्यक्त कर दिया हा उन्हें राम, लक्ष्मण और सीता का पेड़ के नीचे वन में निवास करना अत्यधिक कष्ट पहुँचा रहा है।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
(i) इन पंक्तियों में भरत ने भावुक होकर पित-शोक और भात-प्रेम की भावना को अभिव्यक्त किया है।
(ii) रस करुण

कला पक्ष
भाषा परिष्कृत खड़ीबोली शैली प्रबन्धात्मक
छन्द शिखरिनी अलंकार उपमा एवं अनुप्रास
गुण प्रसाद शब्द शक्ति अभिधा एवं व्यंजना

  • 3 हा! इसी अयश के हेतु जनन था मेरा,
    निज जननी ही के हाथ हनन था मेरा।
    अब कौन अभीप्सित और आर्य, वह किसका?
    संसार नष्ट है भ्रष्ट हुआ घर जिसका।
    मुझसे मैंने ही आज स्वयं मुँह फेरा,
    हे आर्य, बता दो तुम्हीं अभीप्सित मेरा?”
    प्रभु ने भाई को पकड़ हृदय पर खींचा,
    रोदन जल से सविनोद उन्हें फिर सींचा
    “उसके आशय की थाह मिलेगी किसको?
    जनकर जननी ही जान न पाई जिसको?”

शब्दार्थ अयश-अपयश, बदनामी; जनन-जन्म; हनन-हत्या, मृत्यु; मुँह फेरना-उपेक्षा करना; रोदन जल-अश्रु जल, आँसू, सविनोद-प्रसन्नता सहित; आशय-अर्थ, तात्पर्य।

सन्दर्भ पूर्ववत्।

प्रसंग प्रस्तुत पद्य में राम के पूछने पर भरत अपनी बातें उनके सम्मुख रखते हुए अपनी माता कैकेयी के किए पर पछतावा व्यक्त करते हैं और स्वयं को अपनी ही नजरों में उपेक्षित बताते हैं।

व्याख्या भरत अपने भाग्य को कोसते हुए राम से कहते हैं कि विधाता ने मुझे इसी अपयश हेतु जना (जन्म देना) था। अपनी ही माता के हाथों मेरा वध करने के लिए। भला बताएँ आर्य! उस व्यक्ति की क्या इच्छा शेष रही होगी, जिसका घर-संसार सब कुछ नष्ट हो गया हो! आज मैं स्वयं अपनी ही नजरों में दोषी हूँ। स्वयं मैं ही अपनी उपेक्षा करता हूँ। ऐसे में आप ही कहें आर्य कि मेरी
कौन-सी मनोकामना शेष रह गई होगी। भरत की विषादपूर्ण बातों को सुनकर राम ने अपने अनुज को हृदय से लगा लिया। प्रसन्नता के कारण उनकी आँखें भर आईं और उन्होंने भावुक होकर भरत
की प्रशंसा करते हुए कहा कि जिसे स्वयं जन्म देने वाली माता ही न समझ सकी, भला उसके हृदय की गहराई को और कौन समझ सकेगा।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
प्रस्तुत पद्यांश में राम-भरत के आत्मीय प्रेम और भरत के उच्च विचारों की अभिव्यक्ति की गई है।
(ii) रस करुण

कला पक्ष
भाषा परिष्कृत खड़ीबोली शैली प्रबन्धात्मक
छन्द मन्दाक्रान्ता अलंकार अनुप्रास और उपमा
गुण प्रसाद शब्द शक्ति अभिधा एवं व्यंजना

  • 4 “यह सच है तो अब लौट चलो तुम घर को।”
    चौंके सब सुनकर अटल कैकेयी-स्वर को।
    सबने रानी की ओर अचानक देखा,
    वैधव्य-तुषारावृता यथा विधु-लेखा।
    बैठी थी अचल तथापि असंख्यतरंगा,
    वह सिंही अब थी हहा! गोमुखी गंगा-
    हाँ, जनकर भी मैंने न भरत को जाना,
    सब सुन लें, तुमने स्वयं अभी यह माना
    यह सच है तो फिर लौट चलो घर भैया,
    अपराधिन मैं हूँ तात, तुम्हारी मैया।

शब्दार्थ अटल-जो टलने वाला न हो, स्थिर वैधव्य-विधवापन:
तुषारावृता- कुहरे से ढकी हुई; विध-लेखा-चन्द्रमा की रेखा, चाँदनी. अचल-स्थिर; असंख्यतरंगा-अनगिनत लहरों वाली; सिंही-सिंहनी: हहा-दीनता का भाव पूर्ण; गोमुखी-गाय के मुख वाली; जनकर-जन्म देकर; अपराधिन-दोषी।

सन्दर्भ पूर्ववत्।

प्रसंग प्रस्तुत पद्यांश में राम की बात सुनकर माता कैकेयी स्वयं को
दोषी सिद्ध करती हुई उनसे अयोध्या लौटने की बात कहती हैं।

व्याख्या राम की इस बात को सुनकर कि भरत को स्वयं उसकी
माता भी न पहचान सकी, कैकेयी कहती हैं कि यदि यह सच है, तो अब तम अपने घर लौट चलो अर्थात् मेरी उस मूर्खता को भूलकर अयोध्या। चलो. जिसके परिणामस्वरूप मैंने तुम्हारे लिए वनवास की माँग की थी।

कैकेयी के मुख से दढ स्वर में कही गई इस बात को सुनकर सब
विस्मित रह गए और अचानक उनकी ओर देखने लगे। उस समय विधवा रूप में श्वेत वस्त्र धारण कर वे ऐसी प्रतीत हो रही थीं मानो कुहरे ने चाँदनी को ढक लिया हो। स्थिर बैठी होने के पश्चात भी उनके मन में विचारों की अनगिनत तरंगें उठ रही थीं। कभी सिंहनी-सी प्रतीत होने वाली रानी कैकेयी आज दीनता के भावों से भरी थीं। आज वह गंगा के सदृश शान्त, शीतल और पावन थीं।.
कैकेयी आगे कहती हैं कि सभी लोग सुन लें-मैं जन्म देने के पश्चात्
भी भरत को न पहचान सकी। अभी-अभी राम ने भी इस बात को स्वीकार किया है। वह राम से कहती हैं कि यदि तुम्हारी कही बात सच है तो तुम अयोध्या लौट चलो। अपराधिनी मैं हूँ, भरत नहीं। तुम्हें वन में भेजने का अपराध मैंने किया है। इसके लिए मुझे जो दण्ड चाहो दो, मैं उसे स्वीकार कर लूँगी, परन्तु घर लौट चलो, अन्यथा लोग भरत को दोषी मानेंगे।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
(i)प्रस्तत पद्यांश में कैकेयी को अपराध-बोध से ग्रसित दिखाया गया है। राम को घर लौटने का अनुरोध करके वह सदमार्ग की ओर अग्रसर होती दिख रही हैं।
(ii) रस शान्त एवं करुण

कला पक्ष
भाषा परिष्कृत खड़ीबोली
शैली प्रबन्धात्मक छन्द मन्दाक्रान्ता
अलंकार उत्प्रेक्षा, उपमा एवं रूपक
गुण प्रसाद शब्द शक्ति अभिधा एवं लक्षणा

  • 5 दुर्बलता का ही चिह्न विशेष शपथ है,
    पर, अबलाजन के लिए कौन-सा पथ है?
    यदि मैं उकसाई गई भरत से होऊँ,
    तो पति समान ही स्वयं पुत्र भी खोऊँ.
    ठहरो, मत रोको मुझे, कहूँ सो सुन लो
    पाओ यदि उसमें सार उसे सब चुन लो।
    करके पहाड़-सा पाप मौन रह जाऊँ?”
    राई भर भी अनुताप न करने पाऊँ?”
    थी सनक्षत्र शशि-निशा ओस टपकाती,
    रोती थी नीरव सभा हृदय थपकाती।
    उल्का-सी रानी दिशा दीप्त करती थी,
    सबमें भय-विस्मय और खेद भरती थी।

शब्दार्थ शपथ-सौगन्ध; अबलाजन-नारियाँ पथ-मार्ग; उकसाना–बहकाना; सार-निचोड़, यथार्थ बात; पहाड़-सा पाप-घोर अपराध; राई भर-बहुत थोड़ा; अनुताप-पश्चाताप, पछतावा; सनक्षत्र-तारों सहित; शशि-निशा-चाँदनी रात: नीरव-शान्त; उल्का-टूटकर गिरने वाला तारा: दीप्त-प्रकाशित; विस्मय-आश्चर्य; खेद-दुःख।

सन्दर्भ पूर्ववत्।
प्रसंग प्रस्तुत पंक्तियों के माध्यम से कवि ने कैकेयी के पश्चाताप को अपूर्व ढंग से अभिव्यंजित किया है।

व्याख्या कैकेयी, भरत की सौगन्ध खाते हुए राम से कहती हैं कि सौगन्ध खाने से व्यक्ति की दुर्बलता प्रकट होती है, परन्तु स्त्रियों के लिए इसके अतिरिक्त अन्य कोई उपाय नहीं हैं। वह राम को सम्बोधित करते हुए कहती हैं कि हे राम! मुझे तुम्हारे वनवास के लिए भरत ने नहीं उकसाया था। यदि यह सच नहीं तो मैं पति के समान ही। अपना पुत्र भी खो बैलूं। मुझे यह कहने से कोई न रोके। मैं जो कह रही हैं, सभी सुन लें। यदि मेरे कथनों में कोई यथार्थ बात हो तो उसे ग्रहण कर लें। मुझसे यह न सहा। जा सकेगा कि मैं इतना बड़ा पाप करके थोड़ा भी पश्चाताप प्रकट न करूँ और मौन रह जाऊँ।

कैकेयी के यह सब कहने के दौरान तारों से भरी चाँदनी रात ओस के रूप में अश्रु-जल बरसा रही थी और नीचे मौन सभा हृदय को थपथपाते हुए रुदन कर रही थी। यहाँ कहने का तात्पर्य यह है कि कैकेयी के हृदय-परिवर्तन और उनके पश्चाताप को देख सभा में उपस्थित सभी लोगों की संवेदना उनके साथ थी मानो सभासद
सहित प्रकृति ने भी उन्हें उनके अपराध के लिए क्षमा कर दिया हो।
रानी कैकेयी, जिसने अपनी अनुचित माँग से पूरे अयोध्या और वहाँ के निवासियों का जीवन अस्त-व्यस्त कर दिया था, आज पश्चाताप की अग्नि में जलकर चारों ओर सदभाव की किरणें बिखेर रही थीं। उनके इस नए रूप के परिणामतः वहाँ उपस्थित लोगों में एक साथ भय, आश्चर्य और शोक के भाव उमड़ रहे थे।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
(i) यहाँ कवि ने कैकेयी के पश्चाताप में उपस्थित लोगों व प्रकृति को भी उनकी संवेदना का हिस्सा बनाने का भाव व्यक्त किया है।
(ii) रस करुण

कला पक्ष
भाषा परिष्कृत खड़ीबोली शैली प्रबन्धात्मक
छन्द मदाक्रान्ता अलंकार अनुप्रास और उपमा
गुण प्रसाद शब्द शक्ति अभिधा एवं लक्षणा

  • 6 क्या कर सकती थी, मरी मन्थरा दासी.
    मेरा ही मन रह सका न निज विश्वासी।
    जल पंजर-गत अब अरे अधीर, अभागे,
    वे ज्वलित भाव थे स्वयं मुझी में जागे।
    पर था केवल क्या ज्वलित भाव ही मन में?
    क्या शेष बचा कुछ न और जन में?
    कुछ मूल्य नहीं वात्सल्य-मात्र क्या तेरा?
    पर आज अन्य-सा हुआ वत्स भी मेरा।
    थूके, मुझ पर त्रैलोक्य भले ही थूके,
    जो कोई जो कह सके, कहे, क्यों चूके?
    छीने न मातृपद किन्तु भरत का मुझसे,
    रे राम, दुहाई करूँ और क्या तुझसे?

शब्दार्थ दासी -सेविका;निज -अपना;पंजर मत -शरीर के अन्दर
स्थितःअधीर -धैर्य न रखने वाला:वात्सल्य -सन्तान से प्रेम का भाव: वत्स -पुत्र;त्रैलोक्य -तीनों लोक (धरती, आकाश, पाताल);
मातृपद -माता का पद;दुहाई-दीनतापूर्ण की गई याचना।

सन्दर्भ पूर्ववत्।

प्रसंग प्रस्तुत पद्यांश में कैकेयी, राम को वनवास भेजने के लिए स्वयं को दोषी ठहराते हुए पश्चाताप कर रही है।

व्याख्या कैकेयी, मन्थरा को निर्दोष बताते हुए कहती हैं कि मन्थरा तो साधारण-सी दासी है। वह भला मेरे मन को कैसे बदल सकती! सच तो। यह है कि स्वयं मेरा मन ही अविश्वासी हो गया था।
अपने मन को अधीर और अभागा मान कैकेयी अपने अन्तर्मन को कहती हैं कि मेरे शरीर में स्थित हे मन! ईर्ष्या-द्वेष से परिपूर्ण वे ज्वलन्त भाव स्वयं तझमें ही जागे थे। तत्पश्चात् वह अगले ही क्षण सभा को सम्बोधित करते हुए प्रश्न पूछती हैं कि क्या, मेरे मन में केवल आग लगाने वाले भाव ही थे? क्या मुझमें और कुछ भी शेष न था? क्या मेरे मन के वात्सल्य भाव अर्थात् पुत्र-स्नेह का कुछ भी मूल्य नहीं? किन्तु हाय आज स्वयं मेरा पुत्र ही मुझसे पराए की तरह व्यवहार करता है। अपने कर्मों पर पछताते हुए कैकेयी आगे कहती हैं कि तीनों लोक अर्थात् धरती, आकाश और पाताल मुझे क्यों न धिक्कारे, मेरे विरुद्ध जिसके मन में जो आए वह क्यों न कहे, किन्तु हे राम! मैं तुमसे दीन स्वर में बस इतनी ही विनती करती हूँ कि मेरा मातृपद अर्थात् भरत को पुत्र कहने का मेरा अधिकार मुझसे न छीना जाए। ।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
(i) प्रस्तुत पद्यांश में कैकेयी ने अपनी उस विवशता को स्पष्ट किया है जब एक माँ अपनी सन्तान के लिए कुछ भी करने के लिए तैयार रहती है, बावजूद इसके उसे उस सन्तान से प्यार नहीं मिलता।
(ii) रस करुण

कला पक्ष
भाषा परिष्कृत खड़ीबोली शैली प्रबन्धात्मक
छन्द मदाक्रान्ता अलंकार अनुप्रास और उपमा
गुण प्रसाद शब्द शक्ति लक्षणा एवं व्यंजना

  • 7 कहते आते थे यही सभी नरदेही,
    “माता न कुमाता, पुत्र कुपुत्र भले ही।”
    अब कहें सभी यह हाय! विरुद्ध विधाता,-
    “है पुत्र पुत्र ही, रहे कुमाता माता।”
    बस मैंने इसका बाह्य-मात्र ही देखा,
    दृढ़ हृदय ने देखा, मृदुल गात्र ही देखा।
    परमार्थ न देखा, पूर्ण स्वार्थ ही साधा,
    इस कारण ही तो हाय आज यह बाधा।
    युग युग तक चलती रहे कठोर कहानी-
    ‘रघुकुल में भी थी एक अभागिन रानी।’

शब्दार्थ नरदेही-मानव तन धारण करने वाला, मनुष्य; कमाता -बुरी माता; । कुपुत्र -बुरा पुत्र; विधाता -ईश्वर;बाहा-मात्र -बाहरी दल -स्थिर, कठोर; मृदुल -कोमल;गात्र -गात, शरीर परमार्थ-दूसरों का हित साधा -पूरा किया; अभागिन -भाग्यहीना

सन्दर्भ पूर्ववत्।

प्रसंग प्रस्तुत पद्यांश में कैकेयी स्वयं को धिक्कारते हुए भरत के हृदय को न समझ पाने की असमर्थता को व्यक्त कर रही हैं।

व्याख्या आत्मग्लानि में डूबी हुई कैकेयी कहती हैं कि अभी तक तो मानव जाति में यही कहावत प्रचलित थी कि पुत्र, कुपुत्र भले ही हो जाए, माता कभी कमाता नहीं होती अर्थात् पुत्र माता के प्रति अपने कर्तव्यों को पूरा करने में चाहे कितनी भी लापरवाही क्यों न दिखाए, उनके प्रति कितना भी अपराध क्यों न करे, माता उसे क्षमा करके उसके प्रति अपना उत्तरदायित्व सदा निभाती ही रहती है, किन्तु अब तो सभी लोग यह कहेंगे कि विधाता के बनाए नियमों के विरुद्ध यहाँ पुत्र तो पत्र ही है, माता ही कमाता हो गई है अर्थात् संसार मुझ पर बुरी माता होने का आरोप लगाएगा. क्योंकि मैंने पुत्र के हित के विरुद्ध कार्य किया है।

कैकेयी अपने दोष गिनाते हुए आगे कहती हैं, कि मैंने अपने पुत्र (भरत) का केवल बाहरी रूप ही देखा है, उसके दृढ़ हृदय को मैं न समझ सकी। मेरी दृष्टि बस उसके कोमल शरीर तक गई, उसके परमार्थी स्वरूप को मैं अब तक न देख सकी। इन्हीं कारणों से आज मैं इन समस्याओं से घिरी हूँ और मेरा जीवन दुभर हो गया है। अब तो युगों-युगों तक मैं दुष्ट माता के रूप में जानी जाऊँगी। मुझे याद कर लोग कहेंगे कि रघुकुल में एक अभागिन रानी थी, जिसे स्वयं उसके पुत्र ने त्याग दिया था।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
( यहाँ कैकेयी के द्वारा भरत को न पहचान सकने के पश्चाताप का भाव व्यक्त किया गया है, साथ-ही-साथ समाज में होने वाले अपयश से उन्हें अत्यधिक चिन्तित भी दर्शाया गया है।
(ii) रस करुण

कला पक्ष
भाषा परिष्कृत खड़ीबोली शैली प्रबन्धात्मक
छन्द मन्दाक्रान्ता अलंकार अनुप्रास, पुनरुक्तिप्रकाश एवं उपमा
गुण प्रसाद शब्द शक्ति अभिधा एवं लक्षणा

  • 8 निज जन्म जन्म में सुने जीव यह मेरा
    “धिक्कार! उसे था महा स्वार्थ ने घेरा”
    “सौ बार धन्य वह एक लाल की माई,
    जिस जननी ने है जना भरत-सा भाई।”
    पागल-सी प्रभु के साथ सभा चिल्लाई-
    “सौ बार धन्य वह एक लाल की माई।”
    “हाँ! लाल? उसे भी आज गमाया मैंने,
    विकराल कुयश ही यहाँ कमाया मैंने।

शब्दार्थ जीव-आत्मा; लाल-पुत्र; माई-माता; जना-जन्म दिया; गमाया- गॅवाया, खोया; विकराल-भयंकर कयश-अपयश, कलंका

सन्दर्भ पूर्ववत्।

प्रसंग यहाँ कैकेयी द्वारा पश्चाताप व्यक्त करने पर राम सहित उपस्थित सभाजनों ने उन्हें भरत जैसे पुत्र की माता होने पर धन्य कहा है।

व्याख्या कैकेयी पश्चाताप व्यक्त करते हुए कह रही हैं कि अब तो
जन्म-जन्मान्तर तक मेरी आत्मा यह सुनने के लिए विवश होगी कि अयोध्या की रानी कैकेयी को महा स्वार्थ ने घेरकर ऐसा अनुचित कर्म कराया कि उसने धर्म के मार्ग का त्याग कर अधर्म के मार्ग का अनुसरण किया। कैकेयी की इन बातों को सुनकर राम सहित सभासदों ने एक स्वर में कहा कि भरत जैसे महान् पुत्र रत्न को जन्म देने वाली माता सौ-बार धन्य हैं। अतः । यहाँ सभी लोगों द्वारा एक मत से कैकेयी को निर्दोष कहा जा रहा है। – सभासदों की बात को सुनकर कैकेयी ने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उनकी बात दोहराई और कहा कि हाँ मैं उसी पुत्र की अभागिन माता हूँ, जिसे बात मैंने खो दिया है वह पत्र भी अब मेरा नहीं रहा। उसने मुझे माता मानने से। इनकार कर दिया है। मैंने हर प्रकार से अपयश ही कमाया है और स्वयं को । कलंकित भी कर लिया है।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
(i) प्रस्तुत पद्यांश में एक ओर कैकेयी के द्वारा स्वयं को धिक्कारने तोदूसरी ओर राम सहित सभासदों द्वारा उनका गुणगान करने के भाव दर्शाए गए हैं।
(ii) रस करुण

कला पक्ष
भाषा परिष्कृत खड़ीबोली शैली प्रबन्धात्मक छन्द मन्दाक्रान्ता
अलंकार पुनरुक्तिप्रकाश, अनुप्रास एवं उपमा गुण प्रसाद
शब्द शक्ति अभिधा एवं लक्षणा

  • 9 निज स्वर्ग उसी पर वार दिया था मैंने,
    हर तुम तक से अधिकार लिया था मैंने।
    पर वही आज यह दीन हुआ रोता है,
    शंकित तबसे धृत हरिण-तुल्य होता है।
    श्रीखण्ड आज अंगार-चण्ड है मेरा,
    तो इससे बढ़कर कौन दण्ड है मेरा?
    पटके मैंने पद-पाणि मोह के नद में,
    जन क्या-क्या करते नहीं स्वप्न में, मद में?

शब्दार्थ वार दिया-न्योछावर कर दिया; हरना-छीनना; दीन-गरीब-दुखियाःआ शंकित-शंका से ग्रसित; धृत-पकड़े हुए; श्रीखण्ड-चन्दन; अंगार-चण्ड- दहकती हुई आग; पद-पाणि-हाथ-पैर।

सन्दर्भ पूर्ववत्।

प्रसंग प्रस्तुत पद्यांश में कैकेयी, राम के समक्ष अपनी एवं भरत की दीन दशा का वर्णन कर रही है।

व्याख्या पश्चाताप की अग्नि में जलती हुई कैकेयी, राम से कहती हैं कि मैंने अपने उस पुत्र पर अपना स्वर्ग-सुख भी न्योछावर कर दिया था और उसी के कारण मैंने तुम्हारा अधिकार (राज्य) भी तुमसे छीन लिया। मेरा वही पुत्र आज दीन-हीन होकर करुण क्रन्दन कर रहा है। वह तब से किसी पकड़े गए हिरन की तरह सभी से भयभीत हो रहा है। चन्दन के समान शीतल स्वभाव वाला मेरा पुत्र भरत, आज जलते हुए अंगारे की तरह प्रचण्ड दिख रहा है। इससे बढ़कर मुझ अभागिन के लिए दूसरा दण्ड और क्या हो सकता है कि
मेरा पुत्र ही मुझसे अलग हो गया है, वह मुझसे कपित है। हे राम! अब मुझे और बड़ा दण्ड मत दो। मैंने अपने हाथ-पैर मोहरूपी नदी में फेंके और पटके अर्थात् राज्य के मोह में फँस कर ही मैंने यह सब किया। मेरा यह कार्य ऐसा ही था, जैसे कोई व्यक्ति पागलपन में अथवा स्वप्न में व्यवहार करता है। अतः मेरे इस कार्य को पागलपन अथवा स्वप्न में किया गया कार्य समझकर मुझे क्षमा कर दो।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
(i) कैकेयी के पश्चाताप को वाणी प्रदान की गई है और उन्हें दोषमुक्त सिद्ध करने । का प्रयास किया गया है।
(ii) रस करुण

कला पक्ष
भाषा परिष्कृत खड़ीबोली शैली प्रबन्धात्मक
छन्द मदाक्रान्ता अलंकार उपमा, पुनरुक्तिप्रकाश एवं अनुप्रास
गुण प्रसाद शब्द शक्ति अभिधा एवं लक्षणा

  • 10 हा! दण्ड कौन, क्या उसे डरूँगी अब भी?
    मेरा विचार कुछ दयापूर्ण हो तब भी।
    हा दया! हन्त वह घृणा! अहह वह करुणा!
    वैतरणी-सी है आज जाह्नवी-वरुणा!
    सह सकती हूँ चिर, नरक, सुने सुविचारी,
    पर मुझे स्वर्ग की दया दण्ड से भारी।
    लेकर अपना यह कुलिश-कठोर कलेजा,
    मैंने इसके ही लिए तुम्हें वन भेजा।
    घर चलो इसी के लिए, न रूठो अब यों,
    कुछ और कहूँ तो उसे सुनेंगे सब क्यों?

शब्दार्थ हन्त-हाय; वैतरणी-नरक की एक कल्पित दूषित नदी; जाह्नवी-गंगा; वरुणा-वाराणसी में बहने वाली गंगा की एक सहायक नदी: चिर-प्राचीन: सुविचारी-अच्छे विचार वाले; कुलिश-वज्र।

सन्दर्भ पूर्ववत्।

प्रसंग प्रस्तुत पद्यांश में कैकेयी स्वयं पर पश्चाताप प्रकट करते हुए राम को । घर लौट चलने के लिए कह रही हैं।

व्याख्या कैकेयी, राम के समक्ष अपनी पीड़ा व्यक्त करती हुई कहती हैं कि मेरे घोर अपराध हेतु जो भी दण्ड मुझे दिया जाएगा वह कम ही होगा। मेरी दीनतापूर्ण याचना के स्वर को सुनकर यह न समझा जाए कि मैं दण्ड भोगने से भाग रही हूँ अथवा मुझे दण्ड स्वीकार नहीं। वस्तुतः आज दया, घृणा, करुणा, सबने अपने अर्थ खो दिए हैं। आज गंगा और वरुणा जैसी पावन नदियाँ भी मेरे
लिए नरक की भाँति अति दूषित नदी वैतरणी बन गई हैं। मैं सभी सज्जन व प्रबुद्ध लोगों से कहती हूँ कि मैं लम्बी अवधि तक नरक का दुःख भोग सह सकती हूँ, किन्तु स्वर्ग पाने की याचना का भार मुझसे नहीं सहा जाएगा, क्योंकि वह नरक की पीड़ा से कहीं बढ़कर है। कैकेयी आगे कहती हैं कि हे राम, मैंने जिसके (भरत) लिए अपने हृदय को वज्र-सा कठोर बनाकर तुम्हें वन में भेजा था, आज उसी के हितार्थ तुम रूठना छोड़ दो और घर लौट चलो। मैं इसके अतिरिक्त भी बहुत कुछ कहना चाहूँ भी तो मेरी कही गई बातों को भला कौन विश्वास करेगा।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
(यहाँ कैकेयी के द्वारा राम को घर लौटने के पीछे दिए गए तर्क अत्यन्त तार्किक व मार्मिक हैं।
(ii) रस करुण

कला पक्ष
भाषा परिष्कृत खड़ीबोली शैली प्रबन्धात्मक
छन्द मदाक्रान्ता अलंकार अनुप्रास और उपमा
गुण प्रसाद शब्द शक्ति अभिधा एवं लक्षणा

  • 11 मुझको यह प्यारा और इसे तुम प्यारे,
    मेरे दुगुने प्रिय रहो न मुझसे न्यारे।
    मैं इसे न जानूँ, किन्तु जानते हो तुम,
    अपने से पहले इसे मानते हो तुम।
    तुम भ्राताओं का प्रेम परस्पर जैसा,
    यदि वह सब पर यों प्रकट हुआ है वैसा।
    तो पाप-दोष भर पुण्य-तोष है मेरा,
    मैं रहूं पंकिला, पद्म-कोष है मेरा,
    आगत ज्ञानीजन उच्च भाल ले लेकर,
    समझावें तुमको अतुल युक्तियाँ देकर।
    मेरे तो एक अधीर हृदय है बेटा,
    उसने फिर तुमको आज भुजा भर भेटा।

शब्दार्थ न्यारा-अलग, पृथकः भ्राता-भाई, परस्पर-आपसी: तोष-सन्तोष: पंकिला-कीचड़ में सनी हुई पद्म-कोष-कमल का कोष; आगत-आया हुआ, उच्च भाल-उन्नत, मस्तक, तर्क-वितर्क, अतुल-अनुपम, बड़ी; युक्ति-उपाय।

सन्दर्भ पूर्ववत्।

प्रसंग कैकेयी स्वयं पर दोषारोपण करते हुए राम से अयोध्या लौट चलने के लिए विनती कर रही हैं।

व्याख्या कैकेयी, राम से कहती हैं कि हे पुत्र! मुझे भरत प्रिय है और भरत को तुम प्रिय हो। अतः मेरे लिए तुम दोगुने प्रिय हो। इस कारण तुम मुझसे अलग न रहो। यह सत्य है कि मैं भरत को अब तक न पहचान सकी, पर तुम तो इसे पूर्णरूपेण जानते हो और इसे स्वयं से बढ़कर प्यार करते हो। तुम दोनों भाइयों के आपसी प्रेम की अभिव्यक्ति के प्रभाव से आज मेरे पाप का दोष भी पुण्य के सन्तोष में परिणत हो गया है।

कैकेयी आगे कहती हैं कि कीचड के समान होने पर भी मुझे इस बात का सन्तोष है कि मैंने अपनी कोख से कमल रूपी रत्न भरत को जन्म दिया है। भविष्य में ज्ञानी लोग तम दोनों भाइयों के प्रेम को तरह-तरह से प्रमाणित करेंगे और उसे श्रेष्ठ सिद्ध करेंगे और ऐसा होना भी चाहिए, किन्तु एक विवश माँ के लिए इन तर्क-वितर्कों का भला क्या महत्त्व। इस धैर्यहीन माँ की तो अब बस एक ही इच्छा है कि वह तुम-दोनों पुत्रों को सदा अपनी आँखों के सम्मुख देखे। अपने
से कभी दूर न होने दे। आज इस माँ का अधीर हृदय तुम्हें अपनी बाँहें फैलाकर तुमसे विनती कर रहा है कि अयोध्या लौट चलो।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
(i) प्रस्तुत पद्यांश में कवि ने कैकेयी के रूप में एक माता को दोषमुक्त कर उसके हृदय की पवित्रता को कायम रखने का सफल प्रयास किया है।
(ii) रस वात्सल्य

कला पक्ष
भाषा परिष्कृत खड़ीबोली शैली प्रबन्धात्मक छन्द मदाक्रान्ता
अलंकार पुनरुक्तिप्रकाश, अनुप्रास और उपमा गुण प्रसाद एवं माधुर्य शब्द शक्ति अभिधा एवं लक्षणा

गीत

  1. निरख सखी, ये खंजन आए,
    फेरे उन मेरे रंजन ने नयन इधर मन भाए!
    फैला उनके तन का आतप, मन से सर सरसाए,
    घूमें वे इस ओर वहाँ, ये हंस यहाँ उड़ छाए! ।
    करके ध्यान आज इस जन का निश्चय वे मुसकाए,
    फूल उठे हैं कमल, अधर-से यह बन्धूक सुहाए!
    स्वागत, स्वागत, शरद, भाग्य से मैंने दर्शन पाए,
    नभ ने मोती वारे, लो, ये अश्रु अर्घ्य भर लाए।।

शब्दार्थ निरख-देख, खंजन-सुन्दर आँखों वाला एक पक्षी; रंजन-प्रसन्न करने वाले प्रियतम (लक्ष्मण); आतप-ताप, गर्मी, सर-सरोवर, तालाब; सरसाए-सरसता; जन-आत्मीय; अधर-होंठ; बन्धूक-एक लाल फूल; । नभ-आकाश, अध्ये-पूजन के लिए लाया गया जल।

सन्दर्भ प्रस्तुत पद्यांश हमारी हिन्दी की पाठ्यपुस्तक में संकलित राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त द्वारा रचित ‘गीत’ शीर्षक से उधत है।

प्रसंग प्रस्तुत पद्यांश में दर्शाया गया है कि वर्षा समाप्त हो गई है शरद ऋत आरम्भ हो रही है। विरहिणी उर्मिला इस शरद ऋत का स्वागत कर रही है। ।

व्याख्या विरहिणी उर्मिला अपनी संगिनी से कह रही हैं कि देखो सखी। ये खंजन पक्षी आ गए हैं। मुझे ऐसा लगता है, जैसे आनन्द देने वाले प्रियतम ने इन खंजन पक्षियों के रूप में सुन्दर लगने वाले अपने नेत्र मेरी ओर घुमा दिए हैं। । चारों ओर धूप के रूप में प्रियतम के शरीर की गर्मी (तपस्या के कारण उत्पन्न) फैली हुई है और उनके (लक्ष्मण के) मन की सरसता और स्निग्धता के कारण सरोवर कमल के फूलों से खिल उठे हैं अर्थात कमलों से भरे सरोवर को देखकर मेरा मन ऐसे प्रसन्न हो उठा है, मानो उसे प्रियतम के सरस-स्निग्ध शरीर की समीपता प्राप्त हो गई हो। वन में मेरे प्रियतम घूम रहे होंगे और उस मन्द-मन्द गति का स्मरण दिलाने के लिए ही ये हंस उड़कर यहाँ आ गए हैं। मेरे। प्रियतम, वन में मुझे याद करके अवश्य मसकाए होंगे, तभी तो यहाँ ये कमल खिल उठे हैं और लाल रंग के बन्धूक के फूल प्रियतम के लाल अधरों के समान सुन्दर लग रहे हैं।

उर्मिला कहती है कि हे शरद! तुम्हारा स्वागत है। मैंने बड़े भाग्य से आज । तुम्हारे दर्शन किए। आकाश ने तुम्हारे स्वागत में ओस की बूंदों के रूप में असंख्य मोती न्योछावर किए हैं। लो मेरे ये नेत्र तुम्हारे स्वागत के लिए आँसूरूपी अर्घ्य । लेकर प्रस्तुत हैं।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
(i) अपने कलात्मक सौन्दर्य तथा गहन भावाभिव्यंजना, दोनों ही दृष्टियों से यह
गीत अनुपम है।
(ii) रस विप्रलम्भ शृंगार

कला पक्ष
भाषा शुद्ध परिष्कृत खड़ीबोली शैली मुक्तक छन्द गेय पद
अलंकार अपहृति, हेतुत्प्रेक्षा एवं उपमा गुण माधुर्य शब्द शक्ति लक्षणा एवं व्यंजना

  • 2 शिशिर, न फिर गिरि-वन में,
    जितना माँगे, पतझड़, दूँगी मैं इस निज नन्दन में,
    कितना कम्पन तुझे चाहिए, ले मेरे इस तन में।
    सखी कह रही, पाण्डुरता का क्या अभाव आनन में?
    वीर, जमा दे नयन-नीर यदि तू मानस-भाजन में,
    तो मोती-सा मैं अकिंचना रक्खं उसको मन में।
    हँसी गई, रो भी न सकूँ मैं, अपने इस जीवन में,
    तो उत्कण्ठा है, देखू फिर क्या हो भाव-भुवन में।

शब्दाथ शिशि-शीत ऋतु: गि-िपर्वत; नि अपना; नन्दन-इन्द्र का
उद्यान; -पीलापन आन-मुख; नयन ना-नेत्रों का जल, आँसः।
जन-मनरूपी बर्तन: अकिंचन-निर्धनता; उत्कण्ठ-उत्सुकता,
कौतूहल, भाव-भुव-भावों का संसार।

सन्दर्भ पूर्ववत्।

प्रसंग प्रस्तुत पद्यांश में विरहिणी उर्मिला शिशिर ऋतु से संवाद कर रही है। व उसे अपने पास बुला रही है, उर्मिला शिशिर ऋतु से कह रही है कि वो पर्वतों । व वनों में न जाए, जिससे लक्ष्मण शीत से बच जाएँ।

व्याख्या विरह अग्नि में जलती हुई उर्मिला शिशिर ऋत को सम्बोधित करते हुए कहती हैं कि हे शिशिर! तू पर्वतों तथा वनों में मत घूमा कर, मैं तुझे नन्दनवन के सदृश अपने इस शरीर से ही जितना चाहो पतझड़ अर्थात् पीले मुरझाए हुए पत्ते दे दूँगी। यहाँ कहने का तात्पर्य यह है कि जिस प्रकार पतझड़ में वृक्ष के सारे पत्ते पीले पड़ कर झड़ने लगते हैं, उसी प्रकार लक्ष्मण से दूर रहने
वाली उर्मिला के शरीर के सारे अंग विरह अग्नि से तप्त होकर या पीले होकर अपना अस्तित्व खोने लगे हैं। उर्मिला शिशिर से आगे कहती हैं कि तझे कितने कम्पन की आवश्यकता है, मैं तुझे अपने ही शरीर से उसकी आपूर्ति कर दूँगी। यहाँ उर्मिला के कहने का अर्थ है कि पति के वियोग के कारण शीत ऋत में उसका शरीर काँपता रहता है। उर्मिला शिशिर से कह रही हैं कि मेरी सखी मेरे मुख को पीला बताती है। अत: त मेरे मुख से पीलापन ले ले। हे वीर! यदि तू मेरे अश्रू-जल को मनरूपी पात्र में जमा दे तो मैं दीन (गरीब) उसे बड़े ही यत्न से सँजोकर अपने मन में रख लँगी अर्थात अश्रु-जल को मन-ही-मन में पीकर स्वयं को सँभाले रखेंगी। मेरी इसी छिन गई है, पर क्या इस जीवन में अब मैं रो भी नहीं सकती। सचमच यदि
ऐसा ही हो यानी मेरा हँसना-रोना दोनों बन्द हो जाएँ तो उस स्थिति में मैं यह जानने के लिए उत्सुक रहूँगी कि आखिर तब मेरे भाव रूपी संसार में शेष क्या रह जाएगा अर्थात हँसी और रुदन के अभाव में मेरे मन में और कौन-से भाग उत्पन्न होंगे।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
(i) प्रस्तुत पद्यांश में विरह अग्नि में जलती हुई उर्मिला की शारीरिक व मानसिक दशा की अभिव्यक्ति की गई है।
(ii) रस विप्रलम्भ शृंगार

कला पक्ष
भाषा शुद्ध परिष्कृत खड़ीबोली शैली मुक्तक
छन्द गेय पद अलंकार रूपक, मानवीकरण, उपमा एवं काव्यलिंग
गुण माधुर्य शब्द शक्ति लक्षणा एवं व्यंजना
भाव साम्य जायसी के महाकाव्य ‘पद्मावत’ में भी शिशिर ऋतु में होने वाली विरहावस्था का वर्णन बड़े ही मनोहारी ढंग से किया है-

पूस जाड़ थर-थर तन काँपा। सुरुजु जाइ लंका दिसि चाँपा।। ।
बिरह बाद, दारुन भा सीऊ। कॅपि-कॅपि मरौं, लेई हरि जीऊ।।

  • 3 मुझे फूल मत मारो,
    मैं अबला बाला वियोगिनी, कुछ तो दया विचारो।
    होकर मधु के मीत मदन, पटु, तुम कटु, गरल न गारो,
    मुझे विकलता, तुम्हें विफलता, ठहरो, श्रम परिहारो।
    नहीं भोगिनी यह मैं कोई, जो तुम जाल पसारो,
    बल हो तो सिन्दूर-बिन्दु यह–हरनेत्र निहारो!
    रूप-दर्प कन्दर्प, तुम्हें तो मेरे पति पर वारो,
    लो, यह मेरी चरण-धूलि उस रति के सिर पर धारो।।

शब्दार्थ अबला बाल असहाय स्त्री; वियोगिनी-विरहिणी; मधु-बसन्त; मीत-मित्र; मदन-कामदेव, पटु-चतुर; कटु-कड़वा; गरल-विष; जहर; परिहारो-त्यागो; भोगिनी-विलासिनी; हर नेत्र-शिवजी के नेत्र रूप-दर्प सुन्दर रूप का अभिमान; कन्दर्प-कामदेवः वारे-न्योछावर करोः । रति-कामदेव की पत्नी; धार-धारण करो।

सन्दर्भ पूर्ववत्।

प्रसंग वसन्त ऋतु के सुहावने समय में चारों ओर खिले हुए फूल अपने रंग-रूप से अपूर्व मादकता बिखेर रहे हैं, परन्तु विरहिणी उर्मिला को वसन्त ऋतु का विकास और फूलों का रंग-रूप कष्टकारी प्रतीत हो रहा है।

व्याख्या प्रस्तुत पद्यांश में काम-व्यथित उर्मिला कामदेव से प्रार्थना करती है। कि हे कामदेव! तुम मुझे अपने पुष्पबाणों से घायल मत करो, क्योंकि मैं तो वह अबला युवती हूँ जो विरहिणी है, वियोगिनी है। तुम्हें मुझ पर विचारपूर्वक दया करनी चाहिए। तुम वसन्त के मित्र हो और चतुर हो, इसलिए मुझ पर कामरूपी विष की वर्षा मत करो अर्थात् मेरी स्थिति देखकर मुझे और कष्ट मत दो। तुम्हारे पुष्पबाण के प्रहार से मेरा मन व्याकुल हो जाता है। इसमें तुम्हें भी असफलता ही मिलती है। तुम मुझे विचलित करने के लिए बहुत परिश्रम कर चुके हो, इसलिए अब विश्राम करो और अपनी थकान दूर करो। कहने का भाव यह है कि चाहे तुम मुझे कितना भी दुःख क्यों न दो, मैं भोग-विलास की इच्छा रखने वाली कोई विलासिनी नहीं बन सकती हूँ। यदि तुममें शक्ति है, साहस है, तो शिवनेत्र के समान बाधाओं को भस्म कर देने वाले मेरे इस सिन्दूर बिन्दु की ओर देखो।
उर्मिला कहती है कि हे कामदेव! यदि तुम्हें अपने रूप (सौन्दर्य) पर गर्व है, तो तुम अपने इस गर्व को मेरे पति के चरणों पर न्योछावर कर दो अर्थात् सौन्दर्य में तुम मेरे पति के चरणों की धूल के समान हो। यदि तुम्हें इस बात का घमण्ड है कि तुम्हारी स्त्री रति अत्यन्त सुन्दर है, तो तुम मेरे चरणों की धूल को रति के सिर पर रख दो अर्थात तम मझे विचलित करने में कभी सफल नहीं हो सकोगे।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
(i) अपने पतिव्रत धर्म एवं अपने पति के सौन्दर्य को लेकर उर्मिला का गर्व दर्शनीय है।
(ii) रस विप्रलम्भ शृंगार

कला पक्ष
भाषा शुद्ध परिष्कृत खड़ीबोली शैली मुक्तक
छन्द गेय पद अलंकार श्लेष, यमक, रूपक एवं अनुप्रास
गुण माधुर्य शब्द शक्ति लक्षणा एवं व्यंजना
भाव साम्य जायसी ने नागमती के विरह को कामवासना से ऊपर उठाकर शुद्ध समर्पण के भाव में परिवर्तित करते हुए कहा है-

फागु करहिं सब चाँचरी जोरी। मोहिं तन लाइ दीन्ह जस होरी।।।
जो पै पीउ जरत अस पावा। जरत मरत मोहि रोष न आवा।।
राति दिवस सब यह जिउ मोरे। लगौं निहोर कन्त अब तोरे।।

  • 4 यही आता है इस मन में,
    छोड़ धाम-धन आकर मैं भी रहँ उसी वन में।
    प्रिय के व्रत में विघ्न न डालूँ, रहूँ निकट भी दूर,
    व्यथा रहे, पर साथ-साथ ही समाधान भरपूर।
    हर्ष डूबा हो रोदन में,
    यह आता है इस मन में।
    बीच बीच में उन्हें देख लूँ मैं झुरमुट की ओट,
    जब वे निकल जाएँ तब ले, उसी धूल में लोट।।
    रहें रत वे निज साधन में,
    यही आता है इस मन में।
    जाती जाती, गाती गाती, कह जाऊँ यह बात
    धन के पीछे जन, जगती में उचित नहीं उत्पात।
    प्रेम की ही जय जीवन में।
    यही आता है इस मन में।

शब्दार्थ धाम-धन-घरबार और धन-दौलत, व्रत-पर्व, विघ्न-बाधा;
व्यथा-दुःख, समाधान हल, निराकरण; हर्ष-खुशी, आनन्द, रोदन रोने की क्रिया, विलाप: झुरमुट-झाड़ियों वाला क्षेत्र; ओट-आड़ जगती-संसार; उत्पात-झगड़ा, संघर्ष; जय-जीत, विजय।

सन्दर्भ पूर्ववत्।

प्रसंग प्रस्तुत पद्यांश में उर्मिला अपने प्रिय लक्ष्मण के साथ वन में रहने की । इच्छा व्यक्त करती हैं, पर वह उनकी तपस्या में बाधा भी नहीं पहुँचाना चाहतीं।

व्याख्या वियोगिनी उर्मिला कहती है कि अब मेरा मन घर-परिवार और धन-दौलत में नहीं लगता, मैं इन सबको छोड अपने प्रिय के पास वन में जाकर। रहना चाहती हूँ, किन्तु वहाँ उनके पास जाकर भी मैं उनसे दूर ही रहूँगी ताकि उनके व्रत में बाधा न उत्पन्न हो। इस प्रकार यहाँ उर्मिला के द्वारा वनवासी की। तरह जीवन बिताने की चाह व्यक्त की गई है। वह कहती हैं कि मेरा दुःख अर्थात्
विरह की स्थिति यथावत बनी रहे पर साथ-ही-साथ उसका पूर्णत: निदान भी। होता रहे। यहाँ कहने का अर्थ है कि उर्मिला शरीर से दूर रहकर भी अपने प्रियतम के दर्शन का सख भोग सकें। उर्मिला को अपने प्रिय से दूर रहकर उनको न पा सकने के दुःख में रोते रहना स्वीकार है, पर वह उन्हें अपनी आँखों से इतनी दूर जाने नहीं देना चाहती जहाँ से वह उन्हें नजर ही न आएँ। उर्मिला कहती हैं कि वन में रहने के क्रम में मैं बीच-बीच में पेड़-पौधों की आड़ लेकर अपने प्रियतम को देख कर अपनी आँखों की प्यास को तृप्त कर लूँगी और जब वह उस स्थान को छोड़कर चले जाएँगे, तो मैं वहाँ की धूल-मिट्टी में लोट कर उनके साथ होने का सुख प्राप्त करती रहूँगी इससे उनकी साधना भी भंग नहीं होगी और मुझे आत्मिक सुख की प्राप्ति भी होती रहेगी। उर्मिला आगे कहती हैं कि मेरा मन करता है कि मैं जाते-जाते और गाते-गाते यही सन्देशा दे जाऊँ कि इस संसार में धन और वैभव की प्राप्ति के लिए संघर्ष करना तथा एक-दूसरे को मारना-काटना सर्वथा अनुचित है। मानव-जीवन में सदा से प्रेम की ही जीत होती है।

काव्य सौन्दर्य
भाव पक्ष
(i) प्रस्तुत पंक्तियों में कवि ने वियोगिनी उर्मिला की अपने प्रियतम लक्ष्मण से मिलने की तीव्र आकांक्षा का भाव प्रकट किया है।
(ii) रस विप्रलम्भ शृंगार

कला पक्ष
भाषा शुद्ध परिष्कृत खड़ीबोली शैली मुक्तक छन्द गेय पद
अलंकार विरोधाभास, पुनरुक्तिप्रकाश एवं अनुप्रास
गुण माधुर्य शब्द शक्ति लक्षणा एवं व्यंजना
भाव साम्य मीराबाई अपने प्रियतम श्रीकृष्ण को अपनी आँखों में ही बसा लेना चाहती हैं। वह कहती हैं-

“बसो मेरे नैनन में नन्दलाल।”
सूरदास की राधा भी श्रीकृष्ण के दर्शन की प्यास बुझाने के लिए व्याकुल हैं। वह कहती हैं-

“अखियाँ हरि दर्शन की प्यासी
देख्यो चाहत कमल नैन को निसदिन रहत उदासी।”

प्रस्तुत दोहे में मृत्यु के बाद भी प्रियतम के दर्शन की प्यासी आँखों की व्यग्रता दर्शाई गई है-
“कागा नैन निकास ले, पिया पास लै जाय।
पहले दरस दिखाए दे, पाछे लीजो खाय।।

पद्यांशों पर अर्थग्रहण सम्बन्धी प्रश्न उत्तर

प्रश्न-पत्र में पद्य भाग से दो पद्यांश दिए जाएंगे, जिनमें से किसी एक पर आधारित 5 प्रश्नों (प्रत्येक 2 अंक) के उत्तर देने होंगे।

कैकेयी का अनुताप |

  1. तदनन्तर बैठी सभा उटज के आगे,
    नीले वितान के तले दीप बहु जागे।
    टकटकी लगाए नयन सुरों के थे वे,
    परिणामोत्सुक उन भयातुरों के थे वे।
    उत्फुल्ल करौंदी-कुंज वायु रह-रहकर
    करती थी सबको पुलक-पूर्ण मह-महकर।
    वह चन्द्रलोक था, कहाँ चाँदनी वैसी,
    प्रभु बोले गिरा, गम्भीर नीरनिधि जैसी।

(ii) प्रस्तुत पद्यांश किस प्रसंग से सम्बन्धित है।
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में पंचवटी की प्राकृतिक छटा का मनोहारी वर्णन किया गया है। प्रकृति के सौन्दर्य का यह वर्णन उस क्षण का है, जब यहाँ भारत के साथ अयोध्यावासियों को श्रीराम से भेंट करने हेतु रात्रि-सभा का आयोजन किया गया था।

उपर्युक्त पद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

(i) प्रस्तुत पंक्तियाँ किस कविता से अवतरित हैं तथा इसके रचनाकार कौन हैं?
उत्तर प्रस्तुत पंक्तियाँ ‘कैकेयी का अनुताप’ नामक कविता से अवतरित हैं तथा इसके रचनाकार द्विवेदी युगीन प्रसिद्ध राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त जी हैं।

(iii) पंचवटी के प्राकृतिक सौन्दर्य का वर्णन कीजिए।
उत्तर पंचवटी का प्राकृतिक सौन्दर्य अनुपम था। खिले हुए करौंदे, पुष्पों से भरे हरा बगीचों से रह-रह कर आने वाली मन्द, शीतल व सुगन्धित पवन वहाँ उपस्थित लोगों को पुलकित कर रही थी। वहाँ ऐसी मनोहर चाँदनी छिटक रही थी. जिसका अन्यत्र मिलना दुर्लभ है। वहाँ पंचवटी की सभा चन्द्रलोक सी प्रतीत हो रही थी।

(iv) प्रस्तुत पंक्तियों के माध्यम से कवि द्वारा किस भाव की अभिव्यक्ति हुई है?
उत्तर प्रस्तुत पंक्तियों के माध्यम से कवि द्वारा रात्रि के समय पंचवटी आश्रम के आस-पास की प्राकृतिक छटा के मनोहारी होने का भाव अभिव्यक्त किया गया है।

(v) ‘तदनन्तर’ का सन्धि-विच्छेद करते हुए उसका भेद बताइए।
उत्तर तदनन्तर तद् + अनन्तर (व्यंजन सन्धि)।

  • 2 हे भरतभद्र, अब कहो अभीप्सित अपना”
    सब सजग हो गए, भंग हुआ ज्यों सपना।
    “हे आर्य, रहा क्या भरत-अभीप्सित अब भी?
    मिल गया अकण्टक राज्य उसे जब, तब भी?
    पाया तुमने तरु-तले अरण्य-बसेरा…
    रह गया अभीप्सित शेष तदपि क्या मेरा?
    तनु तड़प-तड़पकर तत्प तात ने त्यागा..
    क्या रहा अभीप्सित और तथापि अभागा?
उपर्यक्त पद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

(i) प्रस्तत पद्यांश में किसकी भावुकता का वर्णन किया गया है?
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में भरत की भावुकता का वर्णन किया गया है। भारत ता का वर्णन किया गया है। भरत ने भावुक
होकर पितृ शोक और भातृ-प्रेम की भावना अभिव्यक्त की है।

(ii) भरत अपनी मनोदशा को कब और किसके समक्ष व्यक्त करते हैं?
उत्तर पंचवटी में आयोजित की गई रात्रि सभा में श्रीराम भरत से उनकी इच्छा पूछते हैं तभी भरत अति व्याकुल होकर अपनी मनोदशा श्रीराम के समक्ष व्यक्त करते हैं।

(iii) भरत की मनोदशा सुन, वहाँ उपस्थित सभी लोग सावधान क्यों हो जाते हैं।
उत्तर भरत की मनोदशा सुन सभी लोग इसलिए सावधान हो जाते हैं, क्योंकि सभी लोग राम-भरत संवाद को सुनने और उसका परिणाम जानने के लिए व्याकुल थे।

(iv) भरत को क्या देख अत्यधिक कष्ट पहुँच रहा है?
उत्तर भरत को राम, लक्ष्मण और सीता का पेड़ के नीचे वन में निवास करना अत्यधिक कष्ट पहुँचा रहा है। भरत को राम, लक्ष्मण और सीता से बहुत स्नेह था और वे अपने स्नेहियों को इस अवस्था में नहीं देख पा रहे थे।

(v) ‘तनु तड़प-तड़पकर तत्प तात ने त्यागा।’ पंक्ति में कौन-सा अलंकार है?
उत्तर प्रस्तुत पंक्ति में ‘त’ वर्ण की पुनरावृत्ति होने के कारण अनुप्रास अलंकार है

  • 3 “यह सच है तो अब लौट चलो तुम घर को।”
    चौंके सब सुनकर अटल कैकेयी-स्वर को।
    सबने रानी की ओर अचानक देखा,
    वैधव्य-तुषारावृता यथा विधु-लेखा।
    बैठी थी अचल तथापि असंख्यतरंगा,
    वह सिंही अब थी हहा! गोमुखी गंगा-
    हाँ, जनकर भी मैंने न भरत को जाना,
    सब सुन लें, तुमने स्वयं अभी यह माना
    यह सच है तो फिर लौट चलो घर भैया,
    अपराधिन मैं हूँ तात, तुम्हारी मैया।
उपर्युक्त पद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

(i) प्रस्तुत पद्यांश में किसे अपराध बोध से ग्रसित दिखाया गया है?
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में कैकेयी को अपराध-बोध से ग्रसित दिखाया गया है। राम को घर लौटने का अनुरोध करके वह सद्मार्ग की ओर
अग्रसर होती दिख रही हैं।

(ii) कैकेयी के मुख से किस बात को सुनकर सभी विस्मित रह गए?
उत्तर कैकेयी के मुख से दृढ़ स्वर में कही गई इस बात को सुनकर सभी विस्मित रह गए कि यदि यह सच है, तो अब तुम अपने घर लौट चलो अर्थात् मेरी उस मूर्खता को भूलकर अयोध्या चलो, जिसके परिणामस्वरूप मैंने तुम्हारे लिए वनवास की माँग की थी।

(iii) प्रस्तुत पद्यांश में कवि ने कैकेयी के किस रूप का वर्णन किया है?
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में विधवा कैकेयी श्वेत वस्त्र धारण कर ऐसी प्रतीत हो रही थीं मानो कुहरे ने चाँदनी को ढक लिया हो। स्थिर बैठी होने के पश्चात् भी उसके मन में विचारों की अनगिनत तरंगें उठ रही थीं। कभी सिंहनी-सी प्रतीत होने वाली रानी कैकेयी आज दीनता के भावों से भरी थीं।

(iv) कैकेयी स्वयं को दोषी मानते हए राम से क्या कहती है?
उत्तर कैकेयी स्वयं को दोषी मानते हुए राम से कहती हैं “यदि तम्हारी कही बात । सच है, तो तुम अयोध्या लौट चलो। अपराधिनी मैं हूँ, भरत नहीं। तुम्हें वन में । भेजने का अपराध मैंने किया है। इसके लिए मुझे जो दण्ड चाहो दो, मैं उसे स्वीकार करती हूँ, परन्तु घर लौट चलो, अन्यथा लोग भरत को दोषी मानेंगे।”

(v) प्रस्तुत पद्यांश में कौन-सा रस दर्शाया गया है?
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में कैकेयी के अपराध बोध से उत्पन्न शोकाकुल अवस्था के कारण करुण रस है।

  • 4 दुर्बलता का ही चिह्न विशेष शपथ है.
    पर, अबलाजन के लिए कौन-सा पथ है?
    यदि मैं उकसाई गई भरत से होऊँ,
    तो पति समान ही स्वयं पत्र भी खोऊँ।
    ठहरो, मत रोको मुझे, कहूँ सो सुन लो
    पाओ यदि उसमें सार उसे सब चुन लो।
    करके पहाड़-सा पाप मौन रह जाऊँ?”
    राई भर भी अनुताप न करने पाऊँ?”
    थी सनक्षत्र शशि-निशा ओस टपकाती,
    रोती थी नीरव सभा हृदय थपकाती।
    उल्का-सी रानी दिशा दीप्त करती थी,
    सबमें भय-विस्मय और खेद भरती थी।
उपर्यक्त पद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

(i) प्रस्तुत पद्यांश का भाव स्पष्ट कीजिए।
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में कवि ने कैकेयी के पश्चाताप को अपूर्व ढंग से अभिव्यंजित करते हुए उसमें उपस्थित लोगों व प्रकृति को भी उनकी संवेदना का हिस्सा। बनाने का भाव व्यक्त किया है।

(ii) कैकेयी राम के समक्ष अपने पापों का प्रायश्चित्त किस प्रकार कर रही हैं?
उत्तर कैकेयी राम के समक्ष अपने पापों का प्रायश्चित्त करते हुए राम को सम्बोधित करते हुए कहती हैं कि हे राम! मुझे तुम्हारे वनवास के लिए भरत ने नहीं उकसाया था। यदि मेरी बातों में सच्चाई नहीं हुई तो मैं अपने पति की भाँति ही अपना पुत्र भी खो दूंगी।

(iii) कैकेयी द्वारा किए गए पश्चाताप का क्या परिणाम हुआ?
उत्तर कैकेयी द्वारा किए गए पश्चाताप से स्पष्ट हो गया था कि उसका हृदय परिवर्तन हो गया है। उसके पश्चाताप को देख सभा में उपस्थित सभी लोगों की संवेदना उसके साथ थी, मानो सभासद सहित प्रकृति ने भी उसे अपराध के लिए क्षमा कर दिया हो।

(iv) अयोध्या के निवासियों में एक साथ भय, आश्चर्य और शोक के भाव क्यों उमड़ रहे थे?
उत्तर अयोध्या के निवासियों में एक साथ भय, आश्चर्य और शोक के भाव इसलिए उमड़ रहे थे, क्योंकि इससे पूर्व उन्होंने कैकेयी का ऐसा दयनीय रूप नहीं देखा था।

(v) प्रस्तुत पद्यांश में कौन-सा रस निहित है? |
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में करुण रस है। यहाँ कैकेयी की शोकाकुल स्थिति का वर्णन किया गया है।

  • 5 क्या कर सकती थी, मरी मन्थरा दासी,
    मेरा ही मन रह सका न निज विश्वासी।
    जल पंजर-गत अब अरे अधीर, अभागे,
    वे ज्वलित भाव थे स्वयं मुझी में जागे।
    पर था केवल क्या ज्वलित भाव ही मन में?
  • क्या शेष बचा कुछ न और जन में?
  • कुछ मूल्य नहीं वात्सल्य-मात्र क्या तेरा?
  • पर आज अन्य-सा हुआ वत्स भी मेरा।।
  • थूके, मुझ पर त्रैलोक्य भले ही थूके,
  • जो कोई जो कह सके, कहे, क्यों चूके?
  • छीने न मातृपद किन्तु भरत का मुझसे,
  • रे राम, दुहाई करूँ और क्या तुझसे? |
उपर्युक्त पद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

(i) प्रस्तुत पद्यांश में कैकेयी की किस विवशता को प्रस्तुत किया गया है?
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में कैकेयी ने अपनी उस विवशता को प्रस्तुत किया है जब एक माँ सन्तान के लिए कुछ भी करने के लिए तैयार रहती है, परन्तु इसके पश्चात् भी उसे अपनी सन्तान से प्यार नहीं मिलता।

(ii) कैकेयी, मन्थरा को निर्दोषी बताते हुए क्या कहती हैं?
उत्तर कैकेयी, मन्थरा को निर्दोष बताते हुए कहती हैं कि मन्थरा तो साधारण-सी दासी है। वह भला मेरे मन को कैसे बदल सकती है। सच तो यह है कि स्वयं मेरा मन ही अविश्वासी हो गया था।

(iii) कैकेयी अपने अन्तर्मन को ‘अभागा’ और ‘अधीर मानकर क्या कहती हैं?
उत्तर कैकेयी अपने अन्तर्मन को ‘अभागा’ और ‘अधीर’ मानकर कहती हैं कि मेरे मन में स्थित हे मन! ईर्ष्या-द्वेष से परिपूर्ण वे ज्वलन्त भाव स्वयं तुझमें ही जागे थे।

(iv) कैकेयी अपने कर्मों पर पछताते हुए क्या कहती हैं?
उत्तर कैकेयी अपने कर्मों पर पछताते हुए कहती हैं कि तीनों लोक अर्थात धरती. आकाश और पाताल मुझे क्यों न धिक्कारे, मेरे विरुद्ध जिसके मन में जो आए वह क्यों न कहे, किन्तु हे राम! मैं तुझसे दीन स्वर में बस इतनी ही विनती करती हूँ कि मेरा मातृपद अर्थात् भरत को पुत्र कहने का मेरा अधिकार मुझसे न छीना जाए।

(v) ‘ज्वलित’ और ‘विश्वासी’ शब्दों में से प्रत्यय शब्दांश छाँटकर लिखिए।
उत्तर ज्वलित-इत (प्रत्यय), विश्वासी-ई (प्रत्यय)

  • 6 कहते आते थे यही सभी नरदेही,
    “माता न कुमाता, पुत्र कुपुत्र भले ही।”
    अब कहें सभी यह हाय! विरुद्ध विधाता,-
    “है पुत्र पुत्र ही, रहे कुमाता माता।”
    बस मैंने इसका बाह्य-मात्र ही देखा,
    दृढ़ हृदय ने देखा, मृदुल गात्र ही देखा।
    परमार्थ न देखा, पूर्ण स्वार्थ ही साधा,
    इस कारण ही तो हाय आज यह बाधा।
    युग युग तक चलती रहे कठोर कहानी-
    ‘रघुकुल में भी थी एक अभागिन रानी।’
उपर्युक्त पद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

(i) प्रस्तुत पद्यांश में कवि ने क्या भाव व्यक्त किया है?
उत्तर प्रस्तूत पद्यांश में कवि ने कैकेयी के द्वारा भरत को न पहचान पाने के पश्चाताप का भाव व्यक्त किया है, साथ-ही-साथ समाज में होने वाले अपयश से उन्हें अत्यधिक चिन्तित भी दर्शाया गया है।

(ii) हे पत्र, पुत्र ही, रहे कमाता माता। पंक्ति का आशय स्पष्ट कीजिए।
उत्तर प्रस्तुत पंक्ति के माध्यम से कैकेयी कहती हैं कि विधाता के नियमों के विरुद्ध आज पुत्र तो पुत्री ही है, माता ही कुमाता हो गई है अर्थात् संसार मुझ पर बुरी माता होने का आरोप लगाएगा, क्योंकि मैंने पुत्र के अहित में कार्य किया है।

(iii) प्रस्तुत गद्यांश के आधार पर यह कैसे कहा जा सकता है कि कैकेयी ने । भरत के हृदय को नहीं समझा?
उत्तर कैकेयी अपने दोष गिनाते हुए कहती हैं कि मैंने अपने पुत्र (भरत) का केवल बाहरी रूप ही देखा है, उसके दृढ़ हृदय को मैं न समझ सकी। मेरी दृष्टि बस उसके कोमल शरीर तक गई, उसके परमार्थी स्वरूप को मैं अब तक नहीं देख सकी। इसी वर्णन के आधार पर कहा गया है कि कैकेयी ने भरत के हृदय को नहीं समझा।

(iv) कैकेयी को कौन-सी बात सता रही है?
उत्तर कैकेयी को यह बात सता रही है कि अब युगों-युगों तक वह दुष्ट माता के रूप में जानी जाएगी। उसे याद कर लोग कहेंगे कि रघुकुल में एक अभागिन रानी थी, जिसे स्वयं उसके पुत्र ने त्याग दिया था।

(v) ‘परमार्थ’ शब्द का सन्धि विच्छेद करते हए भेद बताए।
उत्तर परम + अर्थ = परमार्थ (दीर्घ सन्धि)।

  • 7 निज जन्म जन्म में सुने जीव यह मेरा
    “धिक्कार! उसे था महा स्वार्थ ने घेरा”
    “सौ बार धन्य वह एक लाल की माई,
    जिस जननी ने है जना भरत-सा भाई।”
    पागल-सी प्रभु के साथ सभा चिल्लाई-
    “सौ बार धन्य वह एक लाल की माई।”
    “हाँ! लाल? उसे भी आज गमाया मैंने,
    विकराल कुयश ही यहाँ कमाया मैंने।
    निज स्वर्ग उसी पर वार दिया था मैंने,
    हर तुम तक से अधिकार लिया था मैंने।
    पर वही आज यह दीन हुआ रोता है,
    शंकित तबसे धृत हरिण-तुल्य होता है।
    श्रीखण्ड आज अंगार- चण्ड है मेरा,
    तो इससे बढ़कर कौन दण्ड है मेरा?
    पटके मैंने पद-पाणि मोह के नद में,
    जन क्या-क्या करते नहीं स्वप्न में, मद में?
उपर्युक्त पद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

(i) प्रस्तुत पद्यांश में क्या दर्शाया गया है?
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में एक ओर कैकेयी के द्वारा स्वयं को धिक्कारने तो दूसरी ओर राम सहित सभासदों द्वारा उनका गुणगान करने के भाव दर्शाए गए है।

(ii) प्रस्तुत पद्यांश में कैकेयी अपना पश्चाताप करते हुए क्या कह रही हैं?
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में कैकेयी अपना पश्चाताप व्यक्त करते हुए कह रही हैं कि अब तो जन्म-जन्मान्तर तक मेरी आत्मा यह सुनने के लिए विवश होगी कि अयोध्या की रानी कैकेयी को महास्वार्थ ने घेरकर ऐसा अनुचित कर्म कराया कि उसने धर्म के मार्ग का त्याग कर अधर्म के मार्ग का अनुसरण किया।

(iii) प्रस्तुत पद्यांश में कैकेयी, राम के समक्ष अपनी एवं भरत की दीन दशा का वर्णन करते हुए क्या कहती हैं?
उत्तर पश्चाताप की अग्नि में जलती हुई कैकेयी, राम से कहती हैं कि मैंने अपने पत्र पर अपना स्वर्ग-सुख भी न्योछावर कर दिया था और उसी कारण मैंने तम्हारा अधिकार (राज्य) छीन लिया। मेरा वही पुत्र आज दीन-हीन होकर करुण-क्रन्दन कर रहा है।

(iv) सभासदों की बात सुनकर कैकेयी ने क्या प्रतिक्रिया अभिव्यक्त उत्तर सभासदों की बात सनकर कैकेयी ने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि हाँ मैं उसी पत्र की अभागिन माता हूँ जिसे आज मैंने खो दिया। मन माता हूँ जिसे आज मैंने खो दिया है, वह पुत्र भी अब मेरा नहीं रहा। उसने मुझे माता मानने से इनकार कर दिया। प्रकार से अपयश ही कमाया है और स्वयं को कलंकित भी कर दिया

(v) ‘निज जन्म-जन्म में सुने जीव यह मेरा।’ पंक्ति में कौन-सा अलंकार है?
उत्तर प्रस्तुत पंक्ति में ‘जन्म-जन्म’ शब्द की पुनरावृत्ति के कारण ‘पुनरुक्ति । प्रकाश’ अलंकार है।

  • 8 मुझको यह प्यारा और इसे तुम प्यारे,
    मेरे दगने प्रिय रहो न मुझसे न्यारे।
    मैं इसे न जानूँ, किन्तु जानते हो तुम,
    अपने से पहले इसे मानते हो तम।
    तुम भ्राताओं का प्रेम परस्पर जैसा,
    यदि वह सब पर यों प्रकट हुआ है वैसा।
    तो पाप-दोष भर पुण्य-तोष है मेरा,
    मैं रहूँ पंकिला, पद्म-कोष है मेरा,
    आगत ज्ञानीजन उच्च भाल ले लेकर,
    समझावें तुमको अतुल युक्तियाँ देकर।
    मेरे तो एक अधीर हृदय है बेटा,
    उसने फिर तुमको आज भुजा भर भेटा।
उपर्युक्त पद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

(i) प्रस्तुत पद्यांश में कवि ने कैकेयी के किस रूप का वर्णन किया है?
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में कवि ने कैकेयी के रूप में एक माता को दोषमुक्त कर उसके हृदय की पवित्रता को बनाए रखने के प्रयास का वर्णन किया है।

(ii) कैकेयी ने प्रस्तुत पद्यांश में अपनी क्या इच्छा व्यक्त की है?
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में कैकेयी ने अपनी इच्छा व्यक्त करते हुए कहा है कि वह । दोनों पुत्रों को सदा आँखों के सम्मुख देखना चाहती हैं और स्वयं से कभी दूर नहीं होने देना चाहती।

(iii) ‘मैं रहूँ पंकिला, पदम-कोष है मेरा/ पंक्ति का आशय स्पष्ट कीजिए।
उत्तर प्रस्तुत पंक्ति का आशय यह है कि कैकेयी को स्वयं कीचड़ के समान मानने पर इस बात का सन्तोष है कि उसने अपनी कोख से कमलरूपी रत्न भरत को जन्म दिया है।

(iv) कैकेयी द्वारा किससे और क्या विनती की जा रही है?
उत्तर कैकेयी के आगे बाँहें फैलाकर उनसे अपने पापों को प्रायश्चित्त करते हुए, अयोध्या लौट चलने के लिए विनती कर रही है।

(v) प्रस्तुत पद्यांश में कौन-सा रस एवं गुण है?
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में श्रीराम और भरत के प्रति मातृप्रेम दिखाई देता है। अतः यहाँ वात्सल्य रस है तथा प्रसाद एवं माधुर्य गुण है।

गीत

1.निरख सखी, ये खंजन आए,
फेरे उन मेरे रंजन ने नयन इधर मन भाए!
फैला उनके तन का आतप, मन से सर सरसाए,
घूमें वे इस ओर वहाँ, ये हंस यहाँ उड़ छाए!
करके ध्यान आज इस जन का निश्चय वे मुसकाए,
फूल उठे हैं कमल, अधर-से यह बन्धूक सुहाए!
स्वागत, स्वागत, शरद, भाग्य से मैंने दर्शन पाए.
नभ ने मोती वारे, लो, ये अश्रु अर्घ्य भर लाए।।
शिशिर, न फिर गिरि-वन में,
जितना माँगे, पतझड़, दूँगी मैं इस निज नन्दन में,
कितना कम्पन तुझे चाहिए, ले मेरे इस तन में।
सखी कह रही, पाण्डुरता का क्या अभाव आनन में?
वीर, जमा दे नयन-नीर यदि त मानस-भाजन में,
तो मोती-सा मैं अकिंचना रक्खं उसको मन में।
हँसी गई, रो भी न सकूँ मैं, अपने इस जीवन में,
तो उत्कण्ठा है, देखू फिर क्या हो भाव-भुवन में।

उपर्युक्त पद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

(i) प्रस्तुत पंक्तियाँ किस कविता से अवतरित हैं तथा इसके रचनाकार कौन हैं?
उत्तर प्रस्तुत पंक्तियाँ ‘गीत’ नामक कविता से अवतरित हैं तथा इसके रचनाकार द्विवेदी युगीन प्रसिद्ध राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त जी हैं।

(ii) उर्मिला ने खंजन पक्षी के विषय में क्या कहा है?
उत्तर उर्मिला खंजन पक्षी को आते देख ऐसा अनुभव करने लगती है, जैसे आनन्द देने वाले प्रियतम ने इन खंजन पक्षियों के रूप में सुन्दर लगने वाले नेत्र उसकी ओर घुमा दिए हों।

(iii) शरद् ऋतु का स्वागत उर्मिला ने किस प्रकार किया था?
उत्तर शरद् ऋतु का स्वागत करते हुए उर्मिला कहती है कि आज मेरा भाग्य अच्छा था, जो तुम्हारे दर्शन हुए। आकाश ने तुम्हारे स्वागत में ओस की बूंदों के रूप में असंख्य मोती न्योछावर किए हैं। उर्मिला अपने नेत्र दान कर शरद ऋतु के स्वागत के लिए आँसूरूपी अर्ध्य लेकर प्रस्तुत है।

(iv) प्रस्तुत पद्यांश में उर्मिला और पतझड़ में क्या समानता बताई गई है?
उत्तर जिस प्रकार पतझड़ में मुरझाए हुए पत्ते पीले पड़ कर झड़ने लगते हैं, उसी प्रकार लक्ष्मण से दूर रहने वाली उर्मिला के शरीर के सारे अंग विरह अग्नि से तप्त होकर या पीले होकर अपना अस्तित्व खोने लगे हैं।

(v) ‘अभाव’ व उत्कण्ठा शब्दों में से उपसर्ग छाँटकर लिखिए।
उत्तर अभाव-अ (उपसर्ग), उत्कण्ठा-उत् (उपसर्ग)।

  • 2 मुझे फूल मत मारो,
    मैं अबला बाला वियोगिनी, कुछ तो दया विचारो।।
    होकर मधु के मीत मदन, पटु, तुम कटु, गरल न गारो,
    मुझे विकलता, तुम्हें विफलता, ठहरो, श्रम परिहारो।
    नहीं भोगिनी यह मैं कोई, जो तुम जाल पसारो,
    बल हो तो सिन्दूर-बिन्दु यह-हरनेत्र निहारो!
    रूप-दर्प कन्दर्प, तुम्हें तो मेरे पति पर वारो,
    लो, यह मेरी चरण-धूलि उस रति के सिर पर धारो।।
उपर्युक्त पद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

(i) वसन्त ऋतु का विकास उर्मिला को कैसा प्रतीत हो रहा है?
उत्तर वसन्त ऋतु के सुहावने समय में चारों ओर खिले हुए फूल अपने रंग-रूप से अपर्व । मादकता बिखेर रहे हैं, परन्तु उर्मिला को वसन्त ऋतु का विकास और फूलों का रंग-रूप लक्ष्मण के वियोग में अत्यन्त कष्टकारी प्रतीत हो रहा है।

(ii) प्रस्तुत पद्यांश में उर्मिला ने कामदेव से क्या प्रार्थना की है।
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में उर्मिला ने कामदेव से प्रार्थना करते हुए कहा कि तम मझे अपने। पुष्पबाणों से घायल मत करो, क्योंकि मैं तो वह अबला युवती हूँ जो विरहिणी है, वियोगिनी है। तुम्हें मुझ पर विचारपूर्वक दया करनी चाहिए और मुझ विरहिणी को।
कष्ट नहीं देना चाहिए।

(iii) ‘नहीं भोगिनी यह मैं कोई, जो तुम जाल पसारो।’ पंक्ति का आशय स्पष्ट कीजिए।
उत्तर उर्मिला को कामदेव ने दुःख रूपी जाल में फँसाने का बहुत की प्रयास किया। उर्मिला ने कामदेव के पुष्पबाण के प्रहार से स्वयं को बहुत विचलित किया, परन्तु

वह उनके जाल में फँस नहीं पाई। आशय यह है कि कामदेव चाहे कितना । भी दुःख उर्मिला को क्यों न दे दें, परन्तु वह भोग-विलास की इच्छा रखने वाली कोई विलासिनी नहीं बन सकती।

(iv) उर्मिला द्वारा कामदेव के सौन्दर्य के दर्प को कैसे तोड़ा गया है?
उत्तर उर्मिला ने कामदेव के सौन्दर्य के दर्प को तोड़ते हुए कामदेव से कहा कि यदि तुम्हें अपने रूप (सौन्दर्य) पर गर्व है, तो तुम अपने इस गर्व को मेरे पति (लक्ष्मण) के चरणों पर न्योछावर कर दो अर्थात सौन्दर्य में तुम मेरे पति के चरणों की धूल के समान हो।

(v) ‘विकलता’ और ‘विफलता दोनों शब्दों से उपसर्ग, मलशब्द और प्रत्यय छाँटकर लिखिए।

उत्तर विकलता-वि (उपसर्ग), कल (मूल शब्द), ता (प्रत्यय)
विफलता-वि (उपसर्ग), फल (मूल शब्द), ता (प्रत्यय)

  • 3 यही आता है इस मन में,
    छोड़ धाम-धन आकर मैं भी रहूँ उसी वन में।
    प्रिय के व्रत में विघ्न न डालूँ, रहूँ निकट भी दूर,
    व्यथा रहे, पर साथ-साथ ही समाधान भरपूर।।
    हर्ष डूबा हो रोदन में, यह आता है इस मन में।
    बीच-बीच में उन्हें देख लूँ में झुरमुट की ओट,
    जब वे निकल जाएँ तब लेट् उसी धूल में लोट।
    रहें रत वे निज साधन में, यही आता है इस मन में।
    जाती-जाती, गाती-गाती, कह जाऊँ यह बात ।
    धन के पीछे जन, जगती में उचित नहीं उत्पात।
    प्रेम की ही जय जीवन में। यही आता है इस मन में।
उपर्युक्त पद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

(i) प्रस्तुत पद्यांश का भाव स्पष्ट कीजिए।
उत्तर प्रस्तुत पद्यांश में कवि ने वियोगिनी उर्मिला के अपने प्रियतम लक्ष्मण से मिलने की तीव्र आकांक्षा का भाव प्रकट किया है, परन्तु वह उनकी तपस्या में बाधा भी नहीं बनना चाहती, इसलिए वे उनके दर्शन छिप-छिप कर करती है।

(ii) उर्मिला का मन घर-परिवार में क्यों नहीं लगता है?
उत्तर उर्मिला का मन घर-परिवार में इसलिए नहीं लगता है, क्योंकि उन्हें लक्ष्मण की याद रह-रह कर आती रहती है और वह उनके वियोग के कारण दुःखी रहती है। वह घर-बार छोड़कर लक्ष्मण के पास वनों-जंगलों में जाना चाहती है, परन्तु कुछ बाधाएँ उसे लक्ष्मण के पास जाने से रोक लेती हैं।

(iii) “व्यथा रहे, पर साथ-साथ ही समाधान भरपर।’ पंक्ति का आशय स्पष्ट कीजिए।
उत्तर इस पंक्ति का आशय यह है कि उर्मिला वियोग की अवस्था में अत्यन्त दुःखी है। वह भले ही व्यथित रहे, परन्तु इसका समाधान भी उर्मिला ढूँढना चाहती है। वह कहती है कि मेरा दुःख यथावत् बना रहे पर साथ-ही-साथ उसका पूर्णतः निदान भी होता रहे। उर्मिला शरीर से दूर रहकर भी अपने प्रिय के दर्शन का सुख भोग सके। ।

(iv) प्रस्तुत पद्यांश में उर्मिला द्वारा क्या सन्देश दिया गया है?
उत्तर इस संसार में धन और वैभव की प्राप्ति के लिए संघर्ष करना तथा एक-दूसरे को मारना-काटना सर्वथा अनुचित है। मानव जीवन में सदा से प्रेम की ही जीत होती है।
(v) “पर साथ-साथ ही समाधान भरपूर’ में कौन-सा अलंकार है?
उत्तर यहाँ ‘साथ-साथ’ में साथ शब्द की पुनरावृत्ति होने के कारण पुनरावृत्ति अलंकार है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

− 1 = 6

Share via
Copy link
Powered by Social Snap