UP Board syllabus Class 12
UP board chapter 4 Class 12 Long Questions Answer
BoardUP Board
Text bookNCERT
Class 12th
SubjectEnglish
Chapter Chapter 4
Chapter nameTHE HORSE
Chapter Number Number 6 Long Questions Answer
CategoryEnglish PROSE Class 12th
UP Board Syllabus Chapter 4 Class 12th English (Prose)
NumberChapter Number
1UP Board syllabus Chapter 4 Class 12th THE HORSE
2UP Board syllabus Chapter 4 Class 12th Summary of the Lesson
3UP Board syllabus Chapter 4 Class 12 Explanation
4UP Board syllabus chapter 4 Class 12 Comprehension
5UP board syllabus chapter 4 Class 12 Short Questions Answer
6UP board syllabus chapter 4 Class 12 Long Questions Answer
7UP board syllabus chapter 4 Class 12 FILL IN THE BLANKS

Q. Answer the following questions in about 150 words:

Q. 1. What special care did the Creator take in making the horse ? What qualities did the horse acquire as a result of this care?
स्रष्टा ने घोड़ा निर्मित करते हुए क्या विशेष सावधानी वरती ? इस सावधानी से घोड़े ने क्या विशेषताएँ अर्जित की?

Ans. Special Care

Ans. Special Care : The Creator thought to make a new species of animal i.e., horse. By then the work of creating the universe was nearly over. There was left
very little the heavier and harder stuff, but the lighter one was still enough in store. This time the Creator took care to use only a little of the harder stuff. He gave to the
new animal neither horns nor claws. He gave it teeth that could chew but not bite. He gave it energy enough to make it useful on the battle field. He spent in its
making enough of such stuff as the air and the sky are made i.e., lighter materials.

The Result

The Result: The result was that its mind was full of the desire for freedom. It would run a race with the wind. It would dash to the horizon. It would be eager to
fly away from its own self. It would not fight. It would not jump over a prey. It would love only to run and run. The Creator was delighted with his own work. He liked to see the horse running aimlessly. He assigned to it an open field to live in.

विशेष सावधानी

विशेष सावधानी : स्रष्ट ने पशु की नई प्रजाति अर्थात् घोड़ा बनाने की बात सोची। तब तक सृष्टि रचना का कार्य लगभग समाप्त हो चुका था। भारी तथा कठोर सामग्री थोड़ी ही बची थी, परन्तु हल्की सामग्री भण्डार में पर्याप्त थी। इस समय सष्टा से भारी सामग्री को थोड़ी मात्रा में प्रयोग करने की
सावधानी बरती। उसने नये पशु को न तो सींग दिये और न पंजे। उसने उसको दाँत दिये, वे चबा तो सकते थे किन्तु काट नहीं सकते थे। उसने उसको युद्ध के मैदान में उपयोगी बनाने के लिए पर्याप्त शक्ति दी। उसने उसकी रचना में इस प्रकार की सामग्री जिससे वायु तथा आकाश बना है अर्थात् हल्की सामग्री का प्रयोग किया।

परिणाम

परिणाम : उसका यह परिणाम हुआ कि उसके मस्तिष्क में स्वतन्त्रता की इच्छा भरी हुई थी। वह हवा के साथ दौड लगाएगा। वह क्षितिज तक दौड़ेगा। वह अपने से भी दूर उड़ने को उत्सक होगा। लड़ेगा नहीं। वह शिकार पर लपकेगा नहीं। वह केवल दोड़ना ही पसन्द करेगा। स्रष्टा अपने कार्य से
प्रसन्न था। वह पसन्द करता था कि घोड़ा लगातार दौड़ा उसन उसका रहने के लिए खला मैदान दिया।

Q.2. How does the story ‘The Horse illustrate the fact that man’s greatness of heartlies in his accepting the burden of life?

  • The Horse’ नामक कहानी इस तथ्य को किस प्रकार प्रदर्शित करती है कि आदमी के हृदय की विशालता जीवन का भार स्वीकार करने में निहित है ?

Ans. Introduction

Ans. Introduction : Creator ordered Man set the horse free, But he tied its front legs with a cord. Now the horse could only hop about just like a frog. From heaven
the Creator could see the horse, but not the cord. He admitted that He made a blunder in creating the horse.

Man’s cunningness

Man’s cunningness : The Creator asked Man to take the horse back to his stable. Man showed his unwillingness to take the horse back to his stable. He
requested the Creator to give it a field in heaven to roam about. The Creator was angry with the horse. He asked Man to take it back in his stable. At this Man replied
that this frog like creature would be a great burden to him.

Greatness of heart

Greatness of heart: The Creator agreed with Man. But he added that he would be able to show his greatness of heart only by accepting this burden. Man has some responsibility to other creatures too. He should discharge his responsibility.

Conclusion

Conclusion : Man’s greatness of heart lies in accepting and discharging responsibilities.

भूमिका

भूमिका : स्रष्टा ने मनुष्य को घोड़े को मुक्त करने की आज्ञा दी। लेकिन उसने उसकी सामने की टाँगों को एक रस्सी से बांध दिया। अब घोडा एक मेढक की भाँति केवल उछल सकता था। स्वर्ग से स्रष्टा घोड़े को देख सकता था, लेकिन रस्सी को नहीं । उसने स्वीकार किया कि उसने घोड़े की रचना करके
महान गलती की है।

मनुष्य की चतुराई : स्रष्टा ने मनुष्य से घोड़े को वापस अस्तबल में ले जाने को कहा। मनुष्य ने घोड़े को वापस अस्तबल में ले जाने के प्रति अनिच्छा जताई। इस पर मनुष्य ने उत्तर दिया कि यह मेढक जैसा प्राणी उसके लिए बहुत वजन होगा।

मनुष्य की चतुराई

हदय का विशालता : राष्टा मनष्य से सहमत हो गया। परन्त सष्टा ने कहा कि वह इस भार का स्वीकार करके ही अपने हृदय की महानता दिखा सकेगा। मनुष्य के अन्य प्राणियों के प्रति भी कुछ उत्तर दायित्व हैं। उसे अपने उत्तरदायित्व का वहन करना ही चाहिए।

निष्कर्ष

निष्कर्ष : मनुष्य के हृदय की विशालता अपने उत्तरदायित्वों को स्वीकार करने तथा उन्हें वहन करने में निहित है।

Q.3. How did man save himself from the weight of his burdens?
मनुष्य ने अपने को दायित्वों के भार से कैसे बचाया ?

Ans. Man’s burdens

Ans. Man’s burdens: Man had accumulated many burdens. He was bent under their weight. One day he saw a new creation of God. It was a swift and strong horse.
Man understood that the horse could bear his weight. He cast his nets and captured it. He put a saddle on its back and a curb in its mouth and kept it in a prison. He
gave it food to eat. He engaged servants to look after it.

Creator heard its voice

Creator heard its voice: The horse was not happy. It was feeling prisoner. So it kicked at the walls and neighed with distress. The Creator heard his painful neighing, Death showed Him where the horse was. He warned the man and said, “Unless you set the horse free, I shall give it teeth and claws like the tiger’s.” But the man said that the horse is in its right place. But the Creator did not pay any attention on what the man said. The man applied his cunningness. He corded together the front legs of the horse. Now the horse could not walk. It only hopped
like a frog.

Conclusion

Conclusion : The Creator was ashamed very much to see the miserable condition of the horse. He again asked the man to keep the horse with him. When the man accepted it, the Creator said”……… by accepting the burden you will show your greatness of heart.”

मनुष्य के दायित्व

मनुष्य के दायित्व : मनुष्य ने कई दायित्व इकट्ठे कर लिए थे। वह उनके भार तले दबा हुआ था। एक दिन उसने ईश्वर की एक नई सृष्टि को देखा। यह एक तेज और ताकतवर घोड़ा था। मनुष्य ने समझा कि घोड़ा उसके भार को सहन कर सकता था। उसने अपने जाल बिछाए और घोड़े को पकड़
लिया। उसने उसकी पीठ पर एक काठी रखी और मुँह में लगाम लगाई और उसे एक जेल में बन्द कर दिया। उसने उसे खाने को भोजन दिया। उसकी देखभाल के लिए उसने नौकर लगा दिये।

अष्टा ने उसकी आवाज सुनी

अष्टा ने उसकी आवाज सुनी : घोड़ा प्रसन्न नहीं था। वह अपने को कैदी महसूस कर रहा था। इसलिए वह दीवारों पर लात मारता था और दुःख से हिनहिनाता था। स्रष्टा ने उसकी कष्टपूर्ण हिनहिनाहट सुनी। मृत्यु ने जहाँ घोड़ा था, उसे दिखाया। उसने मनुष्य को चेतावनी दी और कहा, “यदि
तुम घोड़े को स्वतन्त्र नहीं करोगे तो मैं इसे चीते जैसे दाँत और पंजे दे दंगा। लेकिन मनुष्य ने कहा कि घोड़ा अपनी उचित जगह पर था। लेकिन मनुष्य ने जो कहा सष्टा ने उस पर कोई ध्यान नहीं दिया। मनुष्य ने अपनी चालाकी दिखाई। उसने घोड़े के आगे के पैरों को रस्सी से बाँध दिया। अब घोड़ा चल।
नहीं सकता था। वह मेढक की तरह केवल उछल सकता था।

निष्कर्ष

निष्कर्ष : स्रष्टा घोड़े की दयनीय हालत देखकर बहत लज्जित था। उसने मनुष्य से घोड़े को फिर से अपने पास रखने को कहा। जब मनुष्य ने यह बात मान ली तो राष्टा ने कहा, “……. इस दायित्व को स्वीकार करके तुम अपने हृदय की महानता प्रदर्शित करोगे।’

Q. 4. Why was the Creator’s heart filled with pity? What did he say to Man about the horse and what was Man’s reply?
राष्टा का हृदय दया से क्यों भर गया ? उसने मनुष्य से घोड़े के बारे में क्या कहा और मनुष्य का क्या उत्तर था ?

Ans. A Happy creation

Ans. A Happy creation : The Creator was delighted with the creation of the horse. He gave it a desire for freedom. He liked to see it running an aimless race. He, therefore, gave it an open field to enjoy freedom.

The Man

The Man: Beyond the field, there lived Man. His life was full of burdens. But he was very clever. He saw the new creation of God. He thought he could shift his
burden on the back of the horse. So the man cast his nets and captured it. He put a saddle on its back and a curb in its mouth. He confined the horse within the four
walls.

The Creator heard its voice

The Creator heard its voice: The horse was in miserable condition. It used to neigh in sorrow. One day the Creator heard the agony of its neighing. He looked down but the horse was not in the open field. He ordered man to set the horse free. But the man played a trick upon the Creator. He corded the front legs of the horse together and then set it free. Thus, tied, it could only jump like a frog. The Creator could not see the cord. He was ashamed to see the horse hopping. He asked man
to take it back.

Conclusion

Conclusion: Man enquired if there were fields in Heaven where it might be sent to roam. Man said if he took the horse back to his stable, it would be a great burden to him. The Creator said that by accepting the horse he would show his greatness.

एक सुखद सृष्टि

एक सुखद सृष्टि : सष्टा घोड़े के निर्माण से प्रसन्न था। उसने उसे स्वतन्त्रता की इच्छा दी। वह उसे निरुद्देश्य दौड़ते हुए देखना चाहता था। इसलिए उसने उसे स्वतन्त्रता का आनन्द लेने के लिए। खुला मैदान दिया।

मनुष्य

मनुष्य : मैदान के उस पार मनुष्य रहता था। उसका जीवन दायित्वों से पूर्ण था। किन्तु वह बहुत चालाक था। उसने ईश्वर की नई रचना को देखा। उसने सोचा कि वह अपने वजन को घोड़े की पीठ पर डाल सकता था। इसलिए अपने जाल फैलाए और घोड़े को पकड़ लिया। उसने उसकी पीठ पर काठी
और मुँह में लगाम लगा दी। उसने घोड़े को चहारदीवारी में कैद कर दिया।

स्रष्टा ने उसकी आवाज सुनी

स्रष्टा ने उसकी आवाज सुनी : घोड़ा दयनीय स्थिति में था। वह दुःख से कराहता रहता था। एक दिन सष्टा ने उसके हिनहिनाने का कष्ट सुना। उसने नीचे देखा किन्तु घोड़ा खुले मैदान में नहीं था। उसने मनुष्य को घोड़े को मुक्त करने का आदेश दिया। लेकिन मनुष्य ने स्रष्टा के साथ एक चाल चली।
उसने घोड़े की आगे की दोनों टाँगें रस्सी से बाँध दी और उसे मुक्त कर दिया। इस प्रकार बँधा हुआ वह केवल मेढक की तरह उछल सकता था। स्रष्टा रस्सी को नहीं देख सका। वह घोड़े को उछलता देखकर बहुत लज्जित हुआ। उसने मनुष्य से घोड़े को वापस ले जाने को कहा।

निष्कर्ष

निष्कर्ष : मनुष्य ने पता किया कि क्या स्वर्ग में मैदान थे जहाँ घोड़ा घूम सके। मनुष्य ने कहा कि यदि वह घोड़े को वापस घुड़साल में ले जाएगा तो यह उस पर भारी वजन होगा। स्रष्टा ने कहा कि घोड़े को स्वीकार करके वह अपनी महानता प्रदर्शित करेगा।

UP Board Syllabus Chapter 4 Class 12th English (Prose)
NumberChapter Number
1UP Board syllabus Chapter 4 Class 12th THE HORSE
2UP Board syllabus Chapter 4 Class 12th Summary of the Lesson
3UP Board syllabus Chapter 4 Class 12 Explanation
4UP Board syllabus chapter 4 Class 12 Comprehension
5UP board syllabus chapter 4 Class 12 Short Questions Answer
6UP board syllabus chapter 4 Class 12 Long Questions Answer
7UP board syllabus chapter 4 Class 12 FILL IN THE BLANKS

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

80 + = 85

Share via
Copy link
Powered by Social Snap