UP Board syllabus Class 11th
BoardUP Board
Text bookNCERT
Class 11th
SubjectEnglish
Chapter Chapter 5
Chapter nameTHE VARIETY AND UNITY OF INDIA
Chapter Number Number 6 Long Answer Type Questions
CategoryEnglish PROSE Class 11th
UP Board Syllabus Chapter 5 Class 11th English (Prose)
NumberChapter Number
1UP Board syllabus Chapter 5 Class 11th THE VARIETY AND UNITY OF INDIA
2UP Board Chapter 5 Class 11th Summary of the Lesson
3UP Board Chapter 5 Class 11 Explanation
4UP Board chapter 5 Class 11 Comprehension
5UP board chapter 5 Class 11 Short Questions Answer
6UP board chapter 5 Class 11 Long Questions Answer
7UP board chapter 5 Class 11 FILL IN THE BLANKS

0.1. What are the examples of India’s unity in diversity?
भारत की विविधता में एकता के क्या उदाहरण हैं?

Or

Describe briefly the variety of India as seen in its natural features.
भारत की प्राकृतिक बनावट (आकृति) में जो विविधता परिलक्षित होती है उसका संक्षेप में वर्णन करो।

Ans. Introduction

Ans. Introduction : India has great varieties in its natural features. The North East of the boundary is covered with high mountains. The South-West and South East is surrounded by great ocean. In the west there is a famous desert. The middle of the country is plain and prosperous.

Mountains

Mountains : ‘There is always snow on the peaks of the Himalayas. There are thick forests. Many animals and birds live there. Sunlight plays beautifully on the
mountains. The wind murmurs in the forests.

Plains

Plains : The vast area of India is enriched with plains. We find green fields. There are rivers to irrigate the fields. The climate and the scenery are quite different in different regions.

Deserts

Deserts : India has a desert territory too. There is sar. I every-where with very little vegetation. The sun reflected from the sand dazzles the eyes. The wind is
mostly hot and full of sand.

The sea

The sea: Three sides of India are encircled by the sea. The sea coast is charming The wind is cool and humid. The is temperate. The seashore is a scene of
great activity.

भूमिका

भूमिका-भारत की प्राकृतिक बनावट में महान विविधता है। उत्तर-पूर्व की सीमा ऊंचे पर्वतों से घिरी है। दक्षिण-पश्चिम तथा दक्षिण-पूर्व भाग विशाल समुद्र से घिरा है। पश्चिम में प्रसिद्ध रेगिस्तान है। देश का मध्य भाग समतल और उपजाऊ है।

पर्वत

पर्वत-हिमालय की चोटियों पर हमेशा बर्फ जमी रहती है। वहाँ घने जंगल हैं। अनेकों जानवर और चिड़ियाँ वहाँ रहते हैं। पर्वतों पर सूरज की धूप सुन्दरता बिखेरती हैं। हवा जंगलों में बहती रहती है।

मैदान

मैदान-भारत का विस्तृत क्षेत्र मैदानों से पूर्ण है। हम हरे खेत देखते हैं। खेतों की सिंचाई के लिए नदियाँ हैं। विभिन्न क्षेत्रों में मौसम और दृश्यावली अलग-अलग हैं।

रेगिस्तान

रेगिस्तान-भारत में रेगिस्तानी क्षेत्र भी है। बहुत ही कम हरियाली के साथ हर जगह बालू है। रेत पर चमकने वाला सूर्य अखिो में चकाचौध कर देता है। हवाएँ अधिकतर गर्म और धूलभरी होती है।

सागर

सागर-भारत की तीन दिशाएँ समुद्र से घिरी है। समुद्र तट आकर्षक है। हवा उण्डी और सुक्षवनी होती है। जलवायु संयमित होती है। समुद्र तट पर हलचल का वृश्य होता है।

Q.2.What is the essential unity in diversity?
विविधता में एकता किस रूप में निरूपित होती है?

Or

How does Pt. Nehru show that India has both variety as well as unity?
पं. नेहरू ने किस प्रकार यह दर्शाया है कि भारत में विभिन्नता और एकता दोनों विद्यमान है?

Or

What according to Nehru, proves the tremendous unity of India behind in apparent diversity ?
पं. नेहरू के अनुसार भारत में प्रत्यक्ष विविधता होते हुए भी कौन-सी बातें उसमें अट्ट एकता को – दर्शाती है?

Or

How can you say that in India there is unity in diversity ?
आप कैसे कह सकते हैं कि भारत में अनेकता में एकता है?

Ans. Variety

Ans. Variety : Variety of India can be easily seen and understood. It is quite dear and vivid. It lies on the surface and anybody can see it. The inhabitants of
India differ from one another in physical appearance and in mental habits and traits. Their racial differences are also clear and not the satne. They differ in face and figure, food and clothing and language. They belong to different religions.

Unity

Unity: Pt. Nehru has described the tremedous unity behind this apparent diversity. People follow different faiths, but they are one in many ways. The only
reason can be that they could not completely and ultimately change the mental backgrounds which the people of those areas had developed. All have the impress of India. Even the followers of different religions who came to India from other countries bacame Indian after sometime. Now they are looked upon as Indians in
other countries. Thus, Pt. Nehru has showed the picture which has variety and unity both.

विविधता

विविधता भारत की विविधता सरलता से देखी और समझी जा सकती है। यह बिल्कुल स्पष्ट और सजीव है। यह सतह पर है तथा कोई भी इसे देख सकता है। भारत के निवासी शारीरिक बनावट और मानसिक चरित्र तथा लक्षण में भिन्न हैं। उनकी जातीय भिन्नता भी स्पष्ट है और समान नहीं है। वे
शक्ल-सूरत, भोजन व वस्त्रों तथा भाषा में भिन्न हैं। वे अलग-अलग धर्मों से सम्बन्ध रखते है।

एकता

एकता-पं. नेहरू ने स्पष्ट विविधता के पीछे शानदार एकता का वर्णन किया है। लोग विभिन्न धर्मों में विश्वास करते हैं लेकिन कई मामलों में एक है। इसका एकमात्र कारण है कि उस क्षेत्र के लोग अन्ततः अपनी पृष्ठभूमि को पूरी तरह नहीं बदल सके। सब पर भारत की छाप थी। भिन्न-भिन्न धर्मो के
अनुयायी, जो दूसरे देशों से भारत आए थे. मी कुछ समय बाद भारतीय बन गये। इस प्रकार पं. नेहरू ने ऐसी तस्वीर दर्शाई है जिसमें विविधता और एकता दोनों है।

Q.3. What factors are responsible for a distinctive quality of Indianness in the various communities of India ?
भारत के विभिन्न समुदायों में भारतीयता के विशेष गुण के लिए कौन-से तत्व उत्तरदायी है?

Ans. Introduction

Ans. Introduction: The present essay ‘The Variety and Unity of India’ has been taken from ‘Discovery of India, written by Pt. Jawahar Lal Nehru. Pt. Nehru loved
India very much. He has presented many a factors which are responsible for a distinctive quality of Indianness in the various communities of India. These factors
are as follows:

(1) The background is common

(1) The background is common : India is made of various communities which retained their peculiar characteristics for hundred of years. They have the virtues and failings with the same national heritage and the same set of the moral and mental qualities.

(2) Tolerance

(2) Tolerance: Indians have the great power of tolerance. They tolerated every outsider as a invador or as a friend. They honoured his thoughts regarding his faith of religion and in the long run, these various communities accepted what was better and absorbed the best principles to their own culture and thus it became an extra-ordinary feature of India’s culture.

(3) Their encouragement

(3) Their encouragement: Various communities of India got encouragement and rose against disruptive tendencies and made an attempt to find synthesis.

(4) Conchesion

(4) Conchesion : Thus, we find that the nature of tolerance, acceptance. encouragement and absorption are the responsible factors for a distinctive quality
of Indianness. They had the saine national hentage, moral and mental outlook to their life.

भूमिका

भूमिका-प्रस्तुत लेख ‘The Variety and Unity of India’ जवाहर लाल नेहरू द्वारा लिखित Discovery of India’ से उद्धृत है। पण्डित नेहरू भारत को बहुत प्यार करते थे। उन्होंने भारत के विभिन्न समुदायों में भारतीयता के विशेष गुण होने के लिए कई तत्वों को उत्तरदायी माना है। ये तत्व निम्न हैं:

  1. पृष्ठ भूमि सार्थलौकिक-भारत विभिन्न समुदायों से मिलकर बना है जिसे ग्रहण करने में सैकड़ों वर्ष की खास विशेषता है। उनमें वही सदगुण और असफलताएँ उसी राष्ट्रीय विरासत और उसी नैतिक गुण के साथ मौजूद हैं।
  2. सहनशीलता-भारतीयों में सहनशीलता की महान शक्ति है। उन्होंने प्रत्येक बाहरी व्यक्ति को एक आक्रमणकारी अधवा एक मित्र के रूप में सहन किया। उन्होंने उनकी आस्था अथवा धर्म के विचारों का सम्मान किया और आगे चलकर इन विभिन्न समुदायों ने जो अधिक अच्छा था उसे स्वीकार कर
    लिया और अपनी सभ्यता के उत्तम सिद्धान्तों के रूप में समाहित कर लिया और इस प्रकार यह भारतीय सभ्यता की विशेषता बन गई।
  3. उनका उत्साह-भारत के विभिन्न समुदायों ने साहस ग्रहण किया और अव्यवस्थित विचार-धाराओं के विरुद्ध आवाज उठाई और समाहित करने का प्रयास किया।
  4. निष्कर्ष-इस प्रकार, हम पाते हैं कि सहनशीलता की प्रवृत्ति, स्वीकार्यता, उत्साहवर्धन तथा समायोजित करने का स्वभाव ही भारतीयता के विशिष्ट गुण के तत्व हैं। उनमें जीवन के प्रति वही भारतीय विरासत, नैतिक और मानसिक दृष्टिकोण है
UP Board Syllabus Chapter 5 Class 11th English (Prose)
NumberChapter Number
1UP Board syllabus Chapter 5 Class 11th THE VARIETY AND UNITY OF INDIA
2UP Board Chapter 5 Class 11th Summary of the Lesson
3UP Board Chapter 5 Class 11 Explanation
4UP Board chapter 5 Class 11 Comprehension
5UP board chapter 5 Class 11 Short Questions Answer
6UP board chapter 5 Class 11 Long Questions Answer
7UP board chapter 5 Class 11 FILL IN THE BLANKS

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

+ 54 = 58

Share via
Copy link
Powered by Social Snap